जासूसी करने वाले हाजी खान पर बड़ा खुलासा, ऐसे जुटाता था जानकारी

जोधपुर(16 फरवरी): पाकिस्तान की तीन खुफिया एजेंसियों के लिए काम करने वाला एजेंट हाजी खान फौजियों को दूध पिला कर उनकी जासूसी करता था।

- मिलिट्री इंटेलीजेंस की लाइजन यूनिट व सीआईडी की पूछताछ में उसने बताया कि वह बॉर्डर पर जहां भी सेना का मूवमेंट होता, वहां बकरियों का रेवड़ लेकर पहुंच जाता। फौजी उसे बकरियां चराने वाला समझते, वह बकरियों का दूध निकाल कर उनके लिए चाय बनाता और बातें कर जासूसी करता था। फिर इन सूचनाओं को वह पाकिस्तान में बैठे आईएसआई के मेजर शेर खान को भेजता था।

- सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तो यह सिलसिला और तेज कर दिया था, इसलिए पिछले छह माह में ही उसके खाते में 2 लाख रुपए आए थे।

- जासूसी के आरोप में पकड़े गए हाजी खान ने बताया कि वह आईएसआई के साथ पाकिस्तान की फील्ड इंटेलीजेंस यूनिट के लिए भी काम करता था। दोनों एजेंसियां उसे प्रत्येक सूचना पर 5 से 10 हजार रुपए देती थी। जब पैसा इकट्ठा हो जाता तो हवाला से दुबई में रहने वाले उसके फुफेरे भाई के पास पहुंचता था। उसे पैसों की जरूरत होती तो वह दुबई से अपने खाते में ट्रांसफर करवाता था। ज्यादातर पैसा उसकी पत्नी राजन जो पाकिस्तान के रहिमियार खान एरिया के 54चक गांव में रहती है, उसके खाते में ही जमा होता था।