जाधव की मां-पत्नी का अपमान करने वाले पाकिस्तान से भारत ने लिया बदला!

नई दिल्ली(30 दिसंबर): कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी का अपमान करने वाले पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि भारत ने उसके 192 जायरीनों (तीर्थ यात्रियों) को वीजा देने से इनकार कर दिया है। इन्हें दिल्ली स्थित हजरत ख्वाजा निजामुद्दीन औलिया के उर्स में शामिल होना था। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भारत के इस कदम पर अफसोस जाहिर किया है।

- बता दें कि ख्वाजा निजामुद्दीन औलिया के उर्स (पुण्यतिथि) पर 1 से 8 जनवरी तक दरगाह पर मेला लगता है।

- यह यात्रा 1974 में हुए एक समझौते (पाकिस्तान-इंडिया प्रोटोकॉल ऑन विजिट टू रिलीजियस श्राइंस) के तहत होनी थी। यह साल में एक बार होने वाला प्रोग्राम है।

- पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है, "यह अफसोसजनक है। 1974 प्रोटोकॉल और लोगों से लोगों के संपर्क के मकसद के खिलाफ है।"

- बयान में यह भी कहा गया कि यह बाइलेटरल प्रोटोकॉल और धार्मिक आजादी के फंडामेंटल राइट्स के खिलाफ है। साथ ही ऐसे कदमों से माहौल बेहतर बनाने, लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने और दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य बनाने की कोशिशों को नुकसान पहुंचता है।

- बता दें कि हाल ही में पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नौसेना के पूर्व अफसर कुलभूषण जाधव से उनकी मां और पत्नी मिली थीं।

- पाकिस्तान ने  वहां सिक्युरिटी की चेकिंग के नाम पर उनके साथ बदसलूकी की। उनकी सुहाग की निशानियां- बिंदी, चूड़ी और मंगलसूत्र उतरवा लिए गए।