पाकिस्तान ने भारत के साथ परमाणु टकराव का जोखिम बढाया

नई दिल्ली (17 जून): अमेरिकी कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) ने कहा है कि पाकिस्तान के फुल स्पेक्ट्रम डेटरेंस परमाणु सिद्धांत और परमाणु सामग्री के उत्पादन की बढ़ती क्षमता ने भारत के साथ अपने परमाणु टकराव के जोखिम को बढ़ा दिया है। एनएसजी की सदस्यता हासिल करने के लिए पाकिस्तान की ओर से जुटाए जा रहे समर्थन के बीच सीआरएस ने यह रिपोर्ट दी है।

परमाणु अप्रसार विश्लेषक पॉल के केर् और अप्रसार मामलों की विशेषज्ञ मेरी बेथ निकिटिन की ओर से लिखी गई रिपोर्ट पाकिस्तान के परमाणु हथियार में कहा गया कि पाकिस्तान के पास सवा सौ से ज्यादा परमाणु हथियार हैं। गत 14 जून को पेश की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को भारत के खिलाफ ही इकट्ठा किया जा रहा है। सीआरएस, अमेरिकी सांसदों के हितों के मुद्दों पर नियमित तौर पर रिपोर्ट तैयार करती है। सीआरएस ने 30 पन्नों की यह रिपोर्ट ऐसे समय में दी है जब पाकिस्तान परमाणु मामले में भारत की बराबरी करने के प्रयास में लगा हुआ है।