''आतंकवाद को आर्थिक मदद के जोखिम वाले शीर्ष देशों में पाकिस्तान''

नई दिल्ली ( 7 सितंबर ): स्विट्जरलैंड के एक समूह ने एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में पाकिस्तान उन 50 शीर्ष देशों में शामिल है जिनमें आतंकवाद के लिए वित्तपोषण और काले धन को सफेद में बदलने का जोखिम सर्वाधिक होता है।

बेसिल इंस्टीट्यूट ऑन गवर्नेंस ने बेसिल एंटी-मनी लांड्रिंग एएमएल इंडेक्स के अपने 2017 के संस्करण में कहा है कि अफगानिस्तान, नेपाल और श्रीलंका इस सूचकांक में विशेष जोखिम वाले देशों में हैं। इस सूचकांक में काले धन को सफेद में बदलने और आतंकवाद के वित्तपोषण से जुड़े जोखिमों का 146 देशों में आकलन किया गया है।

पाकिस्तान इन 146 देशों की सूची में 46वें स्थान पर है जिसे स्विट्जरलैंड की उक्त गैर-लाभ वाली संस्था ने 0 से 10 के बीच अंकों पर मापा है। इस साल का औसत जोखिम स्कोर 6.15 है।

सर्वाधिक एएमएल जोखिम वाले दस देशों में ईरान, अफगानिस्तान, गिनी-बिसाऊ, ताजिकिस्तान, लाओस, मोजांबिक, माली, उगांडा, कंबोडिया और तंजानिया हैं वहीं सबसे कम जोखिम वाले तीन देशों में फिनलैंड, लिथुआनिया और एस्टोनिया हैं।

रिपोर्ट के अनुसार सूडान, ताइवान, इस्राइल और बांग्लादेश में पिछले साल की तुलना में काफी सुधार देखने को मिला है वहीं 2017 में जिन देशों में सबसे ज्यादा बुरी स्थिति रही उनमें जमैका, ट्यूनीशिया, हंगरी, उजबेकिस्तान और पेरू हैं।