पाकिस्तान ने आखिर मान ही लिया कि कश्मीर पर दुष्प्रचार का ढोल फट चुका है- देखें कुरैशी का वीडियो

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (12 अगस्त): पाकिस्तान का कश्मीरी दुष्प्रचार का ढोल फट चुका है। इस बात की ताईद खुद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाहमहमूद कुरैशी ने की है। कुरैशी ने कहा कि उम्मा इस्लाम भी भारत के साथ खड़े हैं। क्योंकि वहां उन्होंने इन्वेस्टमेंट कर रखा है। भारत एक अरब की मार्केट है। अमेरिका, रूस जैसे ताकतें यूएनएससी में भारत का साथ देने के लिए तैयार हैं। कश्मीर मसले पर पाकिस्तान अकेला है। पाकिस्तान की आवाम को इस हकीकत से रूबरू कराना होगा...। हमें वेवकूफों के स्वर्ग में नहीं रहना चाहिए। ये सारी बातें पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने गुलाम कश्मीर (पाकिस्तान के अनाधिकृत कब्जे वाले कश्मीर) के मीडिया से बातचीत के दौरान कहीं।

जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान का प्रॉपेगैंडा किस तरह से फेल हुआ है, इसका जिक्र खुद उसके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी किया है। पाक अधिकृत जम्मू-कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में मीडिया से बात करते हुए कुरैशी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी हमें समर्थन मिलना मुश्किल है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने कहा कि हमें मूर्खों के स्वर्ग में नहीं रहना चाहिए। पाकिस्तानी और कश्मीरियों को यह जानना चाहिए कि कोई आपके लिए नहीं खड़ा है। आपको जद्दोजहद करना होगा। यही नहीं उन्होंने पाकिस्तान की राह मुश्किल बताते हुए कहा, 'जज्बात उभारना बहुत आसान है, मुझे दो मिनट लगेंगे। 35-36 साल से सियासत कर रहा हूं, बाएं हाथ का काम है। जज्बात उभारना आसान है, ऐतराज उससे भी आसान है। लेकिन, मसले को आगे की तरफ ले जाना कठिन है।' दुनिया भर से समर्थन न मिलने से बौखलाए पाक के विदेश मंत्री ने कहा कि वे आपकी तरफ हार लेकर नहीं खड़े हैं।

सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दा उठाने की बात करने वाले पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने कहा, 'देखिए, जो सिक्यॉरिटी काउंसिल के 5 स्थायी सदस्य हैं। उनमें से कोई भी वीटो पावर का इस्तेमाल कर सकता है।' यही नहीं कुरैशी ने मुस्लिम देशों के किनारा करने को लेकर भी टिप्पणी की। कुरैशी ने कहा कि दुनिया के उनके साथ हित जुड़े हुए हैं। एक अरब की मार्केट है। बहुत से लोगों ने वहां इन्वेस्टमेंट कर रखे हैं। हम उम्मा की बात तो करते हैं, लेकिन कई मुस्लिम देशों ने भी वहां इन्वेस्टमेंट किया हुआ है।' कुरैशी अपनी बात को किसी अंजाम पर ले जाते कि उसी समय पोलेण्ड के विदेशमंत्री का फोन आ गया। पोलेण्ड के विदेश मंत्री आजकल यूएनएससी के चेयर पर्सन हैं। दरअसल, कुरैशी पाकिस्तान की जनता या भारतीय कश्मीर में रहने वालों के लिए बल्कि गुलाम कश्मीर के लोगों के लिए भी संदेश दे रहे थे कि भारत इस समय बहुत ताकतवर है और उसके खिलाफ कोई मुहिम तभी चलाना मुम्किन है जब आपके भीतर कुव्बत हो।