पठानकोट एयरबेस आतंकी हमला: पाकिस्तान ने फिर दिया धोखा

नई दिल्ली (19 जनवरी): पाकिस्तान का प्रोपेगंडा पॉलिसी की एक बार फिर जीत हुई है। पठानकोट एयरबेस हमला प्रकरण में पाकिस्तानी एजेंसियों ने जैश-मुहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अज़हर को न तो गिरफ्तार किया था और न हिरासत में लिया गया था। पाकिस्तानी पंजाब के लॉ मिनिस्टर का बयान भी भारत सरकार और भारतीय मीडिया को भटकाने वाला था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये जानकारी भारतीय खुफिया एजेंसियों ने जांच-पड़ताल के बाद दी है। यह रिपोर्ट गृह, विदेश मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय को भी दी जा चुकी है, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है। भारतीय एजेंसियों का कहना है कि अगर पाकिस्तानी सरकार पठानकोट हमले के दोषियों को सजा देना चाहती तो पहले उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करती। एफआईआर दर्ज किये बिना कार्रवाई संभव ही नहीं है। 26/11  के मुंबई हमलों के आतंकी सरगना के खिलाप भी पाकिस्तान ने कोई एफआईआर दर्ज नहीं की थी।