Blog single photo

अमेरिका ने किया ऐसा काम, भीख मांगने को मजबूर हुआ पाकिस्तान

एक-एक रुपये के लिए तरस रही पाकिस्तान की इमरान सरकार को अमेरिका ने एक बार फिर बड़ा झटका दिया है। पाकिस्तान ने कुछ समय पहले चीन से लिए गए ऋण को चुकाने को लेकर अंतरराष्ट्रीय

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 दिसंबर): एक-एक रुपये के लिए तरस रही पाकिस्तान की इमरान सरकार को अमेरिका ने एक बार फिर बड़ा झटका दिया है। पाकिस्तान ने कुछ समय पहले चीन से लिए गए ऋण को चुकाने को लेकर अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) से मदद मांगी थी, जिसमें अमेरिका ने अड़गा लगा दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, अमेरिका के एक प्रमुख सांसद ने कहा है कि पाकिस्‍तान ने चीन का कर्ज चुकाने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) से ऋण लेने का जो तरीका अपना यह वह सही नहीं है। सांसद ने कहा कि चीन ने कई देशों को कर्ज के जाल में उलझाया हुआ है, ऐसे में उसके कर्ज को उतारने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) को किसी भी देश को ऋण देना सही नहीं है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान गंभीर भुगतान संतुलन संकट से निपटने के लिए आईएमएफ से आठ अरब डॉलर का कर्ज चाहता है। कर्ज के बोझ की वजह से देश की अर्थव्यवस्था संकट की स्थिति में आ गई है। डेमोक्रेट सांसद ब्रैड शेरमन ने कहा कि अमेरिका को आईएमएफ में वीटो अधिकार है। उन्होंने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान को मदद में जो कटौती की है, उसके तत्काल बहाल होने की उम्मीद नहीं है। शेरमन ने बताया कि उन्होंने पिछले सप्ताह पाकिस्तान को आईएमएफ के कर्ज का मुद्दा ट्रंप प्रशासन के साथ उठाया था।

नकदी की गंभीर समस्या से जूझ रहे पाकिस्तान ने वित्तीय संकट से निकलने के लिए आईएमएफ से आठ अरब डॉलर की सहायता मांगी है। 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने वित्त मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से कहा है कि 20 नवंबर के बाद दोनों पक्षों ने बृहस्पतिवार को पहली बार संपर्क किया। 20 नवंबर को मुद्राकोष और पाकिस्तान सरकार के बीच पहली बार राहत पैकेज पर बात हुई थी।

इससे पहले पाकिस्तान ने सऊदी अरब से मदद मांगी थी। पाक के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया था कि पाकिस्तान को सऊदी अरब से राहत पैकेज की दूसरी खेप मिल गई है। एक अरब डॉलर का सउदी पैकेज मिलने के बाद पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार (foreign exchange reserves) बढ़कर 9.26 अरब डॉलर हो गया है। पिछले महीने स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (SBP) ने इस बात की पुष्टि की थी कि उसे सउदी अरब से एक अरब डॉलर मिले हैं।

Tags :

NEXT STORY
Top