'चालबाज' चीन के बड़े कर्ज जाल में फंसता जा रहा है ना'पाक' पाकिस्तान !

बीजिंग (3 मई): भारत को घेरने के लिए पाकिस्तान हर वक्त ना'पाक' चाल चलता रहता है। भारत को घेरने के लिए पाकिस्तान चीन के साथ गिलगित-बलतिस्तान के रास्ते आर्थिक गलियारा यानी CPEC बना रहा है। लेकिन पाकिस्तान अपनी इस ना'पाक' चाल में चीन की चालबाजी में फंसता जा रहा है।  


इंस्टीट्यूट ऑफ डिफेंस रिसर्च एंड एनालिसिस यानी IDRA कि एक रिपोर्ट जिसे विशेषज्ञ 'जैनब अख्तर' ने तैयार किया है में कहा गया है कि पाकिस्तान अनजाने में लगातार चीन के कर्ज के तले दबते जा रहा है कि जो भविष्य में उसके लिए नुकसानदेह हो सकता है। इतना ही नहीं इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान में CPEC को लेकर आर्थिक एवं राजनीतिक चर्चा के बीच गिलगित-बलतिस्तान के लोगों की आशा और आकांक्षाओं को नज़रंदाज किया जा रहा हैं।


साथ ही इस रिपोर्ट में CPEC के व्यापक परिदृश्य में गिलगित-बलतिस्तान का क्या स्थान है पर भी सवाल उठाया गया है। इसमें कहा गया है, कि जहां तक विकास की बात है ऐसे में गिलगित-बलतिस्तान पाकिस्तान के नियंत्रण वाले सबसे उपेक्षित क्षेत्रों में है. पाकिस्तान की लगातार सरकारों ने इस क्षेत्र को मुख्यधारा में लाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया।


बताया जा रहा है कि चीन ने इस क्षेत्र के षड्यंत्र महत्व को देखते हुए 1950 में ही काराकोरम हाइवे (केकेएच) के निर्माण का कार्य शुरू किया था, जो 1978 में पूरा हो गया था। चीन ने पूर्व की कुछ विकास परियोजनाओं के माध्यम से इस क्षेत्र में अपनी पैंठ बनानी शुरू कर दी थी। वहीं सीपीईसी को चीन की ओर से पाकिस्तान में अबतक के सबसे बड़े निवेश के रूप में पेश किया जा रहा है।