पाकिस्तानी जेलों में संख्या ज्यादा होने पर कैदियों को दे दी जाती है फांसी !

नई दिल्ली (8 जुलाई): दुनिया में पाकिस्तान एक मात्र ऐसा देश है जहां जेलों में कैदियों की संख्या ज्यादा हो जाने पर उन्हें फांसी दे दी जाती है। यह खुलासा जस्टिस प्रॉजेक्ट पाकिस्तान की एक रिपोर्ट में किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने साल 2014 में मौत की सजा से पाबंदी हटाने के बाद से अब तक 465 कैदियों को फांसी दी है। इसके साथ ही पाकिस्तान सर्वाधिक फांसी देने वाला दुनिया का पांचवां देश बन गया है। यह जानकारी कैदियों के अधिकारों के लिए काम करने वाले एक संगठन ने दी है। 


जस्टिस प्रॉजेक्ट पाकिस्तान (जेपीपी) ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि मौत की सजा अपराध पर अंकुश लगाने में विफल रही है, लेकिन इसका राजनीतिक औजार के तौर पर बहुतायत इस्तेमाल किया जा रहा है। कभी-कभार जेलों में बढ़ी भीड के समाधान के तौर पर इसका इस्तेमाल किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है, 'अधिक संख्या में फांसी ने पाकिस्तान को सर्वाधिक फांसी देने के मामले में चीन, ईरान, सउदी अरब और इराक के बाद दुनिया का पांचवां देश बना दिया है।'