सर्जिकल स्ट्राइक से डरा पाक भारत आने को तैयार

नई दिल्ली ( 24 अक्टूबर ) : उरी में हुए आतंकवादी अटैक के बाद पाकिस्तान को अलग-थलग करने की भारत सरकार की कोशिशों के प्रभाव को कम करने के लिए अफगानिस्तान को लेकर भारत में होने वाली एक प्रमुख क्षेत्रीय कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान शामिल हो सकता है। पंजाब के अमृतसर में दिसंबर के पहले हफ्ते में ‘द हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल’ मंत्रिस्तरीय बैठक का आयोजन होना है। पाकिस्तान में नवंबर में होने वाले सार्क सम्मेलन का भारत की तरफ से बहिष्कार किए जाने और दोनों देशों के बीच के मौजूदा तनाव को देखते हुए पाकिस्तान की भागीदारी को लेकर संशय की स्थिति थी।

पाकिस्तान की ओर से जारी सीमा पार आतंकवाद का हवाला देते हुए भारत ने घोषणा की थी कि मौजूदा परिस्थितियों में वह इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मेलन में हिस्सा नहीं ले पाएगा।

खबरों के मुताबिक इस बारे में जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने बताया कि हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल सम्मेलन से दूर रहकर पाकिस्तान का भारत की राह पर चलने का इरादा नहीं है। संबंधित पक्षों का विचार है कि पाकिस्तान को हार्ट ऑफ एशिया-इस्तांबुल सम्मेलन में हिस्सा लेना चाहिए।’

एक अधिकारी के मुताबिक सम्मेलन के अफगानिस्तान से जुड़े होने के कारण इसके बहिष्कार का सवाल ही नहीं पैदा होता। उन्होंने बताया, हम लोगों ने बार-बार कहा है कि पाकिस्तान हर उस पहल का समर्थन करता है, जिसका सरोकार अफगानिस्तान की शांति और स्थिरता से है। हालांकि, अब तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि पाकिस्तान इस सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज को या किसी कनिष्ठ अधिकारी को भेजेगा। रूस, चीन, तुर्की समेत 14 देशों के विदेश मंत्रियों के इस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने की उम्मीद है, जिसमें अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति पर विस्तार से चर्चा की जाएगी। इसके अलावा, अमेरिका समेत 17 समर्थन करने वाले देशों के वरिष्ठ अधिकारी भी इसमें शामिल होंगे।