पाकिस्तानी सेना ने कहा, डिप्लोमसी फेल होती है तो तय है युद्ध होना

नई दिल्ली ( 4 मई ): अपनी नापाक हरकतों से पाकिस्तान बाज नहीं आ रहा है। सीमा पर बार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। अब इस बीच पाकिस्तान की सेना ने कहा है कि जब डिप्लोमसी फेल होती है तभी जंग होती है। पाक सेना ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि हमारे डिफेंस और शांति की कोशिशों को हमारी कमजोरी समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। हालांकि पाक आर्मी ने यह भी कहा कि भारत के साथ किसी प्रकार के जंग की फिलहाल कोई संभावना नहीं है, क्योंकि दोनों ही देश परमाणु संपन्न हैं।पाकिस्तान आर्मी की मीडिया विंग, इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के महानिदेशक मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में चेतावनी भरे लहजे में कहा कि शांति की हमारी इच्छा को कमजोरी नहीं समझना चाहिए। इसके साथ ही पाक सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने 2018 की शुरुआत से लेकर अब तक भारत पर 1,077 बार संघर्षविराम उल्लंघन करने का आरोप भी लगाया। हालांकि हकीकत यह है कि कुछ दिन पहले शांति की बात करने के बावजूद पाक सेना लगातार सीमावर्ती इलाकों में भारी गोलाबारी कर रही है। एक दिन पहले ही पाक सेना की गोलीबारी में 2 भारतीय जवान शहीद हो गए।जंग की आशंका पर गफूर ने कहा कि दोनों पक्ष कई द्विपक्षीय मुद्दों को लेकर एक दूसरे के संपर्क में हैं, लेकिन भारत वार्ता के लिए तैयार नहीं है। आपको बता दें कि भारत लगातार कहता रहा है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते हैं। पाक सैन्य अधिकारी ने आगे कहा कि जंग तभी होती है जब कूटनीति पूरी तरह से फेल हो जाती है। उन्होंने कहा, 'भारतीयों को समझना चाहिए कि वे भविष्य में कहां जाना चाहते हैं। हम दोनों परमाणु संपन्न देश हैं और युद्ध के लिए कोई स्पेस नहीं है।'मेजर जनरल गफूर ने कहा, 'दोनों देशों की सेनाओं के बीच 2003 के सीजफायर अग्रीमेंट को मानने पर सहमति बनने के बाद कथित तौर पर भारतीय फायरिंग का पाकिस्तान ने जवाब नहीं दिया था, लेकिन जब नागरिकों को निशाना बनाया गया तभी हम जवाब देने को मजबूर हुए।' उन्होंने कहा, 'अगर भारत पहली गोली चलाता है और कोई नुकसान नहीं होता है तो हम जवाब नहीं देंगे। अगर भारत की ओर से दूसरी गोली चलती है तो हम जरूर जवाब देंगे।' आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से पाकिस्तान लगातार सीमा पर भारतीय चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बना रहा है।