PM मोदी से तिलमिलाया पाक, बलूचिस्तान पर चला नया पैंतरा

नई दिल्ली (23 अगस्त): पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की असेंबली में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान के खिलाफ प्रस्ताव पास हुआ है। यह प्रस्ताव बलूचिस्तान और गिलगित-बाल्टिस्तान पर दिए बयान के खिलाफ पारित हुआ है।  

- रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब प्रांत की असेंबली में पंजाब के कानून मंत्री राणा सनाउल्लाह ने मोदी के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया।  - यह प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास भी हो गया।  - प्रस्ताव में कहा गया कि सदन बलोचिस्तान और गिलगिट-बाल्टिस्तान पर पीएम के बयानों की कड़ाई से निंदा करता है। - सदन ने पीएम के बयानों को पाकिस्तान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करार दिया है।

क्या है प्रस्ताव

- पाकिस्तान की संघीय सरकार से इस मामले को संयुक्त राष्ट्र समेत तमाम अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर उठाने की भी बात कही गई है।  - भारत से सभी व्यापारिक संबंध तोड़ने की गुजारिश भी संघीय सरकार से की गई है। - प्रस्ताव में कहा गया, "संघीय सरकार (पाकिस्तान की) को इस मामले को संयुक्त राष्ट्र समेत दूसरे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाना चाहिए। विश्व को यह बताने की जरूरत है कि मोदी सरकार पाकिस्तान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रही है।" - पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के विधायक खुर्रम वाट्टू ने सदन से कहा कि भारत से व्यापारिक संबंधों को तोड़ने के लिए संघीय सरकार से गुजारिश की जाए।  - पंजाब असेंबली में विपक्ष के नेता राशिद ने आरोप लगाया कि मोदी का बयान उनकी असिहष्णुता की नीति और दूसरे राज्यों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप को दर्शाता है। - गौरतलब है कि पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण के दौरान बलूचिस्तान और गिलगित-बाल्टिस्तान का जिक्र किया था।