पाकिस्तान को नवाज़ शरीफ से खतरा- इमरान ख़ान

नई दिल्ली(20 जुलाई): पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान ने कहा है कि उनके मुल्क को सेना से कोई खतरा नहीं है बल्कि खतरा तो प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से है। बाग और मुजफ्फराबाद में रैलियों को संबोधित करते हुए खान ने 1999 के तख्तापलट को याद किया, जब जनरल परवेज मुशर्रफ ने शरीफ को बर्खास्त कर उन्हें गिरफ्तार किया था। उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान के लोग उस तरह से सड़कों पर नहीं उतरे, जिस तरह से तुर्की के लोग पिछले शुक्रवार की रात सड़क पर उतरे थे। इसके बजाय पाकिस्तन की जनता ने नवाज़ शरीफ को बर्खास्त किये जाने बाद जश्न मनाया और मिठाइयां बांटी थीं।

इमरान ख़ान ने कहा कि पाकिस्तान में सेना के सत्ता पर कब्जा करने का लोग जश्न मनाएंगे। बाद में इमरान ख़ान ने अपने बयान में आंशिक बदलाव किया और कहा कि तर्की में अर्दोगान की जरह शरीफ होते तख्ता पलट कामयाब हो जाता। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की अवाम तुर्क लोगों की तुलना में कहीं अधिक लोकतंत्र समर्थक थी, लेकिन वे 1999 में शरीफ के समर्थन में नहीं उतरे थे। उन्होंने कहा कि फैक्टरियां खड़ी करना, धन दौलत जमा करना और परिवारवाद को बढ़ावा देना शुरू से ही उनकी शैली रही है। शरीफ शासन के लिए अपनी नई पीढ़ी को तैयार कर रहे हैं।