भारत की जुबान बोल रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप, हमें बलि का बकरा बना रहा अमेरिका: पाक

नई दिल्ली ( 5 जनवरी ): ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान को दी जाने वाली करोड़ों डॉलर की सैन्य सहायता रद्द कर दी है जिसके बाद पाकिस्तान और अमेरिका के एक दूसरे पर शब्दों के तीर चला रहे हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप की हाल में की गई टिप्पणी यह दिखाती है कि वो भारत की भाषा बोल रहे हैं।

हाल ही में ट्रंप की ओर से एक ट्वीट में पाकिस्तान को झूठा होने का आरोप लगाए जाने के बाद इस्लामाबाद को सैन्य सहायता देना बंद कर दिया गया है। ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा था, 'अमेरिका ने अज्ञानतावश पिछले पंद्रह साल में पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर से ज्यादा की आर्थिक मदद की है और बदले में उसने झूठ, धोखा और हमारे नेताओं को मूर्ख समझने के सिवा हमें कुछ नहीं दिया। अफगानिस्तान में हम जिन आतंकियों की तलाश कर रहे हैं वह (पाकिस्तान) उन्हें पनाह दे रहा है।'

अब ट्रंप के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए पाक विदेश मंत्री ने कहा, 'अफगानिस्तान में अपनी असफलता के लिए अमेरिका पाकिस्तान को बलि का बकरा बना रहा है।' नेशनल असेंबली के स्पीकर अयाज सादिक ने बैठक के बाद कहा, 'अमेरिका के बयान पर संतुलित प्रतिक्रिया की जरूरत है।' उन्होंने कहा कि अमेरिका के साथ संबंध बनाए रखते हुए देश की गरिमा को बनाए रखा जाना चाहिए।

इससे पहले ट्रंप के ट्वीट के कुछ घंटे बाद ही पाकिस्तान का रक्षा मंत्रालय सक्रिय हो गया। रक्षा मंत्रालय ने आरोप लगाते हुए कहा कि उसे अमेरिका से कुछ भी नहीं मिला। आतंकवाद के खिलाफ अभियान के लिए उसने अपनी जमीन अमेरिका को दी। पाक रक्षा मंत्रालय ने कहा, 'अमेरिका ने हमें केवल अविश्वास दिया। अमेरिका सीमा पार स्थित आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाहों को नजरंदाज करता है।'