सेना और सरकार की राह चली पाक की टीवी-फिल्म इंडस्ट्री

नई दिल्ली (6 अक्टूबर): पसर्जिकल स्ट्राइक और दुनियाभर में अलग-थलग पड़ने से हताश-निराश पाकिस्तान ने अब अपनी फिल्म इंडस्ट्री को बर्बाद करने का कदम उठा लिया है। पाकिस्तानी मीडिया नियंत्रक ने भारतीय चैनलों व कार्यक्रमों का प्रसारण करने वाली कंपनियों पर कार्रवाई के निर्देश जारी कर दिये हैं। इसके अलावा पाकिस्तानी सिनेमा घरों में भारतीय फिल्मों की स्क्रीनिंग पर भी रोक लगा दी गयी है। जबकि ऐसा करने से पाकिस्तानी दो तिहाई से ज्यादा फिल्म इंडस्ट्री पर संकट के बादल हैं।  पाकिस्तानी अधिकारियों के मुताबिक कश्मीर के कथित विवादित इलाके में भड़की हिंसा के बाद यह कड़ा कदम उठाया गया है।

पाकिस्तानी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेग्युलेटरी अथॉरिटी के प्रवक्ता ने गुकहा, भारत और पाकिस्तान के बीच उपजे तनाव के चलते जनता भारतीय चैनलों और कार्यक्रमों को बैन करने की मांग कर रही है। पाकिस्तानी कानून के मुताबिक, प्रतिदिन 86 मिनट ही भारतीय चैनलों का प्रसारण किया जा सकता है, लेकिन भारतीय टीवी कार्यक्रमों की बढ़ती लोकप्रियता के चलते केबल ऑपरेटर नियमों की अनदेखी करते हैं। भारतीय डीटीएच सर्विस भी पाकिस्तान में मना है, लेकिन हकीकत में इसकी बिक्री लगातार होती है। अथॉरिटी का कहना है कि जो भी भारतीय चैनलों, कार्यक्रमों को चलाकर नियम तोड़ता पाया गया तो उसका लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा।