ठिकाने आया अक्ल, पाक सेना प्रमुख बाजवा ने कश्मीर मसले पर कही ये बातें

इस्लामाबाद (9 सितंबर): आतंकवाद को अपनी विदेश नीति और कूटनीति का हिस्सा बनाने वाले पाकिस्तान की दुनिया से सामने पोल खुल चुकी है। तमाम देश पाकिस्तान को आतंकवाद परस्त मानता है और उसपर अपनी-अपनी तरह से कार्रवाई भी कर रहा है। आतंकवाद के मुद्दे पर दुनियाभर से लग रहे झटके के बाद अब लगता है पाकिस्तान को थोड़ी अक्ल आने लगी है।

इन सबके बीच पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कश्मीर मुद्दे का समाधान राजनीतिक और कूटनीतिक स्तर पर होने की वकालत की है। पाकिस्तानी सेना के किसी भी जनरल ने पहली बार कश्मीर मुद्दे का समाधान शांतिपूर्ण ढंग से ढूंढने की बात नहीं कही है। बाजवा ने ये बाते 'रक्षा दिवस' पर आयोजित वार्षिक कार्यक्रम में ये बातें कही।

बाजवा का यह बयान उस समय सामने आया है, जब पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने यह स्वीकार किया कि इंटरनैशनल स्तर पर लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे प्रतिबंधित आतंकी संगठनों को पाकिस्तान में पनाह मिली हुई है।

बाजवा ने जोर देते हुए कहा कि तरक्की के लिए शांति जरूरी है। बाजवा ने कहा कि दोनों देशों में रहने वाले लाखों लोगों की भलाई स्थाई शांति में ही है। उन्होंने कहा कि भारत के लिए भी यही बेहतर होगा कि वह पाकिस्तान की निंदा करने और कश्मीरियों पर सेना थोपने के बजाए इस मुद्दे का समाधान राजनीतिक और कूटनीतिक स्तर पर ढूंढे।