परमाणु परीक्षण किये नॉर्थ कोरिया ने सजा मिलेगी चीन और पाकिस्तान को

नई दिल्ली (15 सितंबर): चीन और पाकिस्तान को पिछले दिनों नार्थ कोरिया के पांचवें सबसे बड़े परमाणु परीक्षण में मददगार माना जा रहा है। इसलिए अमेरिकी विशेषज्ञ मान रहे हैं कि दोनों देशों को कुछ प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो दोनों ही देशों ने संयुक्त राष्ट्रसंघ के कुछ मान्य प्रतिबंधों का उल्लंघन  किया है, जिसमें चीन सबसे बड़ा मुद्दा है।  

स्कॉट सिनेडर जो कि काउंसिल फॉर फॉरेन रिलेशंस से जुड़े हैं, उनका कहना है कि अगर चीन के रोल की सही व्याख्या की जाए तो वास्तविकता वि यही है कि चीन, नॉर्थ कोरिया को साधारण मदद देकर उसका सक्रियता से समर्थन कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि चीन के समर्थन से ही नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग उन को इस बात पर यकीन हो गया है कि चीन उसकी स्थिरता के लिए वोट करेगा और कभी भी उसके लिए कोई खतरा नहीं बनेगा। न्‍यूकॉम्‍ब के मुताबिक अमेरिका के कानून उन सभी पर प्रतिबंधों की मंजूरी देते हैं तो नॉर्थ कोरिया के साथ जुड़े हैं और व्‍यापार कर रहे हैं।