सेंसर बोर्ड के चेयरमैन ने कहा, राज ठाकरे की गुंडागर्दी नहीं चलने देंगे

नई दिल्ली ( 20 अक्टूबर ) :  पहलाज निहलानी ने कहा कि मोदी सरकार या महाराष्ट्र सरकार ने कभी फिल्म को बैन नहीं बैन किया और न कभी किसी का बयान आया।  आज गृहमंत्री ने जैसा कहा सुरक्षा देंगे, फिल्म को रिलीज करने देना चाहिए। उन्होंने कहा, फिल्म इंडस्ट्री के लोगों ने फिल्म इंडस्ट्री को मारा है और बाहर वाले लोगों की हिम्मत बढ़ाई है। फिल्म को रिलजी होने देना चाहिए, क्योंकि सेंसर बोर्ड से क्लीयरेंस मिला है। यह मनसे की गुंडागर्दी है।

फिल्म रिलीज होनी चाहिए। मैं करन जोहर को शुभकामनाएं देता हूं। करन ने ईमानदारी से फिल्म बनाई है। देश पाकिस्तान के साथ  दोस्ती का हाथ बढ़ा रहा था, लेकिन पाकिस्तान की चल रही बात को पटरी से उतारने की आदत है। आज पूरी फिल्म इंडस्ट्री का काम है कि यूनाइटेड होकर सबको  बता दें कि हमारी पावर क्या है? 

फिल्म इंडस्ट्री की पावर दूसरे लोग इस्तेमाल करते हैं। फिल्म इंडस्ट्री के लोग यह पावर खुद के लिए इस्तेमाल करें। हर स्टेट का सर्टिफिकेट फिल्म को मिला है। अब उनका फर्ज है फिल्म को अच्छी तरह रिलीज करने दिया जाए। अगर कोई गुंडागर्दी करता है, तो राज्य सरकार कानून-व्यवस्था बना कर रखा चाहिए।     

जिसको जो करना है करें जो कानून को करना होगा पुलिस करेगी।  गृहमंत्री ने जो कहा उसपर अमल होगा। यह समस्या एक पार्टी की नहीं थी। हमारे फिल्म इंडस्ट्री के कुछ लोगों यह हंगामा क्रिएट किया। फिल्म को बैन करके एक क्षेत्रीय पार्टी को सपोर्ट किया। इम्फा के लोगों ने एक पार्टी की हिम्मत बढ़ाई।