अजमेर दरगाह के दीवान का PM को चिट्ठी, 'पद्मावती' पर रोक लगाने की मांग

अजमेर (17 नवंबर): संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' का लगातार विरोध बढ़ता जा रहा है। अब अजमेर दरगाह के दीवान ने प्रधानमंत्री मोदी को चिट्ठी लिखकर फिल्म पर रोक लगाने की मांग की है। अजमेर में दरगाह के आध्यात्मिक प्रमुख दरगाह दीवान ने कहा कि संजय लीला भंसाली का आचरण विवादित लेखक सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतह की तरह धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है इसलिए पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है। मुसलमानों को इसका समर्थन करना चाहिए।

साथ ही दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान ने संजय लीला भंसाली तुलना सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतेह से करते हुए कहा कि पद्मावती फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली का किरदार ठीक उसी तरह है जैसे विवादित लेखक सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतह है, क्योंकि जिस तरह भंसाली ने इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पद्मावती फिल्म का निर्माण करके देश के राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है, उसी तरह अभिव्यक्ति की आजादी का सहारा लेकर सलमान रुश्दी और तस्लीमा नसरीन ने इस्लाम धर्म के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी करके मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश की है। 

इसी तरह पद्मावती फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी और पद्मावती के प्रस्तुत किए गए कथित चित्रण से राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचना स्वाभाविक है। इसलिए भंसाली और पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है और इस विरोध में देश क मुसलमानों को राजपूतों का समर्थन करना चाहिए ।