चित्तौड़ गढ़: करणी सेना ने पद्मिनी महल के मशहूर आईने को तोड़ा

जयपुर(6 मार्च): राजस्थान के चित्तौड़ गढ़ के पद्मिनी महल में रविवार को अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मिनी के प्रेम प्रसंग की कहानी का कथित हिस्सा बताए जाने वाले आईनों (कांच) को करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फोड़ डाला।

- यह कांच महल के गोलाकार कक्ष में लगे थे और टूरिस्ट गाइड इन्हे पर्यटकों को खिलजी-पद्मिनी प्रेम प्रसंग के सबूत के तौर पर दिखाते थे।

- पर्यटकों को कहा जाता था कि इन्हीं कांचों में खिलजी को पद्मिनी की सूरत दिखाई गई थी। करणी सेना ने कांचों को फोड़ने की जिम्मेदारी कबूल की है।

- सेना के कार्यकर्ता सहदेवसिंह नारेला की ओर से कहा गया है कि उनके नेतृत्व में ही कांच तोड़े गए हैं। उन्होंने कहा कि 20 दिन पहले इस बारे में पुरातत्व विभाग को लिखित में चेतावनी दी जा चुकी थी लेकिन उन्होंने इस ओर ध्यान नहीं दिया और मजबूरन उन्हें यह कदम उठाना पड़ा।

- पुरातत्व विभाग से जब इस विषय में बात की गई तो जवाब मिला कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है कि कांच किसने तोड़े। फोर्ट के कार्यवाहक संरक्षण सहायक प्रेमचंद शर्मा के अनुसार विभाग की ओर से कोतवाली थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।