मासूमों को यूं ठूंस रखा था जीप में, जानें क्या हुआ जब जज ने रुकवाई गाड़ी


पानीपत(22 जनवरी): हरियाणा के पानीपत के सीजेएम मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार को बापौली खंड के गांव नवादा आर में एक स्कूल वैन में ठूंस-ठूंसकर भरे गए 39 बच्चों को वैन से निकलवाया।


- स्कूल में छुट्टी होने के बाद बच्चों को घर छोड़ने के लिए स्कूल प्रबंधकों द्वारा एक बेकार हो चुकी सूमो जीप का प्रयोग किया जा रहा था और सूमो में चार से आठ साल तक के बच्चे भरे हुए थे।


- शारदा शिक्षा निकेतन स्कूल की इस सूमो का प्रयोग बीते लंबे समय से बच्चों की ट्रांसपोर्टेशन के लिए किया जा रहा था।


- बच्चों को पशुओं की तरह से सूमो में भरा हुआ देख सीजेएम ने अपनी गाड़ी रुकवाकर हालात देखे तो तुरंत सनौली थाना पुलिस को मौके पर बुलाया।


-सीजेएम के निर्देश पर पुलिस ने सूमो को कब्जे में ले लिया है और विभिन्न धाराओं के तहत सूमो के चालान किए हैं।


- सीजेएम मोहित अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने सूमो चालक रणबीर को वाहन के कागजात, रजिस्ट्रेशन, पोल्यूशन, इंश्योरेंस दिखाने के साथ ही उसका लाईसेंस मांगा लेकिन चालक के पास किसी प्रकार का भी कागज मौजूद नहीं था।


- चालक रणबीर का कहना था कि सभी कागजात मौजूद तो हैं, लेकिन वे घर पर रखे हुए हैं। रणबीर को कागजात मंगवाने का समय भी दिया गया, लेकिन बावजूद इसके वह कोई भी कागज उपलब्ध नहीं करवा पाया।


- गाड़ी चलाने के लायक भी नहीं है, लेकिन इसका इस्तेमाल बच्चों की ट्रांसपोर्टेशन के लिए किया जा रहा था। बीच का दरवाजा खुलता नहीं है तो आगे का दरवाजा भी बामुश्किल जोर लगाकर ही खोलना पड़ता है। साथ ही सभी सीटें फटी हुई हैं।


- इतना ही नहीं गाड़ी स्कूल वैन के तौर पर चलाने के लिए आरटीओ से भी स्वीकृत नहीं है और इसके लिए विभाग से परमिट भी नहीं लिया गया है।


- चूंकि कार्यवाई स्वयं न्यायाधीश ने की है, ऐसे में अब जिला शिक्षाधिकारी उदय प्रताप सिंह कह रहे हैं कि इस मामले में उन्हें शिकायत की जरूरत भी नहीं है और जल्द ही स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।