बाहरी छात्रों ने रची थी NIT में तनाव की साजिश!

श्रीनगर (26 अप्रैल): एनआईटी श्रीनगर में हुए तनाव की जांच रिपोर्ट को कमेटी ने सौंप दिया है। रिपोर्ट में बाहरी राज्यों के छात्रों को हिंसा का जिम्मेदार माना है तो वही इस मुद्दे को लोकसभा में भी उठाया गया।

कश्मीर में एनआईटी छात्रों पर हुए लाठीचार्ज और तनाव के चलते बनाई गई जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में बाहरी राज्यों के छात्रों को जिम्मेदार ठहराया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक सोची समझी साजिश के तहत ये सब कुछ हुआ।

रिपोर्ट में कहा गया है कि गैर-कश्मीरी छात्रों ने तोड़फोड़ की और संपति को नुकसान पहुंचाया है। कैंपस में तनाव की योजना 31 मार्च से पहले बनाई गई थी। एनआईटी के कुछ छात्र जो कि बाहरी राज्यों के हैं उन्होंने बाहरी राज्य से ही तिरंगा मंगवाया था। भारत-वेस्टइंडीज मैच के दौरान बाहरी राज्यों के छात्रों ने स्थानीय छात्रों को उकसाया और फिर तनाव उत्पन्न हो गया। स्थानीय कश्मीरी छात्रों ने बाद में हरे झंडे फहराए जो एनआईटी कैंपस के बाहर से लाए गए।

इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए छात्रों का कहना है कि ये रिपोर्ट मुद्दा भटकाने के लिए है। हम वहा पर पढ़ने गए थे न कि उकसाने। बाहरी छात्रों पर इल्जाम गलत है, ये सरकार की साजिश है। छात्रों का भविष्य खराब करने की चाल है हम ऐसा नही होने देंगे।