ISI के पूर्व चीफ ने माना, हमने बनाई थी 26/11 की योजना

नई दिल्ली (10 मई): मुंबई हमले के 8 साल बाद एक तरफ जहां पाकिस्तान आज भी यह मानने को तैयार नहीं कि इस हमले में उनके लोग शामिल थे। वहीं एक नए खुलासे में सामने आया है कि इस हमले में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी का हाथ था। यह खुलासा खुद अमेरिका में पाकिस्तान के एंबेसडर रहे हुसैन हक्कानी ने किया है।

हक्कानी ने अपनी किताब में आईएसआई के पूर्व प्रमुख शुजा पाशा के हवाले से लिखा कि 26/11 हमलों की योजना बनाने वाले लोग 'हमारे' थे लेकिन ऑपरेशन किसी और का था। अमेरिका में पाकिस्तान के तत्कालीन राजदूत हुसैन हक्कानी ने अपनी किताब इंडिया वर्सेस पाकिस्तान में इस बात का दावा किया है। यह किताब अगले हफ्ते प्रकाशित होगी। उन्होंने अपनी किताब में दावा किया है कि पाशा ने कहा था कि मुंबई हमले में लोग हमारे थे, ऑपरेशन हमारा नहीं था।

एक अंग्रेजी अखबरा की रिपोर्ट के मुताबिक, हक्कानी ने कहा कि पाशा ने इस बात की भी जानकारी दी थी कि आतंकी हमले की साजिश में पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसियों के पूर्व अधिकारी भी शामिल थे। उन्होंने यह भी कहा कि सारे सबूत होने के बावजूद पाकिस्तान सरकार ने कभी भी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। इस मामले में भारत ही नहीं, अमेरिका ने भी सबूत दिए थे।