आयकर संशोधन बिल में सरकार पर मनमानी का आरोप, राष्ट्रपति से पीएम मोदी की शिकायत

नई दिल्ली (1 दिसंबर): नोटबंदी पर जारी सियासी घमासान के बीच आयकर संशोधन विधेयक पर भी विपक्ष सरकार के साथ आरपार के मूड में दिख रहा है। इसी कड़ी आज शाम 16 विपक्षी दलों के नेताओं ने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मुलाकात की और इस मुद्दे पर उनसे हस्तक्षेप की मांग की। इनमें तृणमूल कांग्रेस, वामदल, बीएसपी, एसप, जेडीयू और डीएमके, कांग्रेस के नेता शामिल थे। 

विपक्ष का आरोप है कि आयकर संशोधन विधेयक बिना किसी नियम के पालन किये जल्दबाजी में पारित किया गया है। नोटबंदी पर एकजुट विपक्ष ने राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा। जिसमें निचले सदन में हंगामे के दौरान बिना किसी चर्चा के विधेयक पारित किये जाने के विषय को उठाया गया है। विपक्ष का आरोप है कि ये बहुमत का दुरूपयोग और सांसदों के लोकतांत्रिक अधिकारों पर प्रहार है। विपक्षी दलों ने आरोप लगाया कि विधेयक में कुछ संशोधन के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी जरूरी थी, ऐसे में नियमों एवं प्रक्रियाओं की अनदेखी कर राष्ट्रपति के पद कमतर किया गया है। 

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि आयकर संशोधन बिल में सरकार ने की मनमानी की है और बिल पास कराने के लिए संसदीय प्रक्रिया को फॉलो नहीं किया गया।