करुणानिधि के जन्मदिन के बहाने विपक्ष ने दिए महागठबंधन के संकेत

नई दिल्ली (4 मई): विपक्षी दलों ने चेन्नई में भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर बरसते हुए देश को विभाजित करने वाले 'संप्रदायवाद' तथा 'फासीवाद' का एकजुट होकर मुकाबला करने का आह्वान किया। विपक्षी नेता डीएमके प्रमुख एम.करुणानिधि के 94वें जन्मदिन के मौके पर एक सार्वजनिक सभा करने के लिए इकट्ठा हुए थे। इस कार्यक्रम में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित शीर्ष नेता मौजूद थे, लेकिन स्वास्थ्य कारणों से डीएमके प्रमुख खुद मौजूद नहीं थे।


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश में एक विचारधारा है, जो यह सोचता है कि उसके पास सभी सवालों के जवाब हैं और लोगों द्वारा झेले जा रहे विभिन्न मुद्दों पर दूसरों से बात नहीं करता। कांग्रेस नेता ने कहा कि जब पूरी दुनिया कह रही है कि अर्थव्यवस्था में गिरावट नोटबंदी की वजह से है, वहीं इस बारे में केंद्रीय वित्त मंत्री की अलग राय है।

वहीं, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि करुणानिधि का कद बेहद बड़ा है, जिन्होंने दबे-कुचलों तथा पिछड़ी जातियों के लिए लड़ाई लड़ी। भाकपा नेता डी. राजा ने कहा कि अगर करुणानिधि मंच पर मौजूद होते, तो वह देश में सांप्रदायिक राजनीति के खिलाफ बोलते।