ऑपरेशन अस्पताल : एक नामी अस्पताल जो मरीज को समझता है ATM मशीन...

वरुण सिन्हा, गाजियाबाद (7 जुलाई): न्यूज़24 के ऑपरेशन अस्पताल की हकीकत देखकर आंखे फटी की फटी रह जाएंगी। देश के एक नामी अस्पतालों की ऐसी कड़वी हकीकत, जिसे देखकर होश उड़ जाएंगे। मामूली सी बीमारी को हव्वा बनाकर कैसे की जाती है, मरीजों से वसूली। सच तो यही है कि मरीज को डॉक्टर नोट छापने की मशीन समझते हैं।

दरअसल, 70 साल के यशवीर सिंह भी गाजियाबाद के नामी यशोदा अस्पताल में दाखिल होने से पहले डॉक्टर को भगवान का दूत समझते थे। लेकिन अब कहते हैं डॉक्टर नोट छापने की मशीन होता है। पेट दर्द की शिकायत पर अस्पताल गए थे। एक्स सर्विसमैन को मिलने वाला ईसीएचएस कार्ड था। अस्पताल ने फौरन भर्ती किया। लेकिन अस्पताल यशवीर सिंह को मरीज़ नहीं, एटीएम मशीन समझ कर खूब वसूली की। दूसरे अस्पताल में पहुंचते ही उनकी तबियत ठीक हो गई।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का कहना है कि अगर अस्पताल या डॉक्टर पर ऐसे आरोप साबित होते हैं, तो उसका लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है। यशवीर के बेटे अमित ने हिम्मत दिखाई अस्पताल की हकीकत सामने लाने की। लेकिन ऐसे अस्पताल और डॉक्टर कमाई की हवस में ना जाने अब तक कितने मरीजों की जान से खेल चुके होंगे। 

देखिए न्यूज़24 की रिपोर्ट...

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=9GNf6WDHtA8[/embed]