अब कालाधन रखने वालों की खैर नहीं, सरकार ने लाॅन्च की 'ऑपरेशन क्लीन मनी' वेबसाइट

नई दिल्ली ( 16 मई ): केंद्र की मोदी सरकार ने कालेधन और टैक्सचोरी के खिलाफ और उस पर लगाम लगाने के लिए नया कदम उठाया है। इसके तहत सरकार अब इनकम टैक्स विभाग के छापों की रिपोर्ट्स एक वेबसाइट पर सार्वजनिक करेगी। साथ ही डिफॉल्टर्स को हाई रिस्क से वेरी लो रिस्क कैटिगरी में डिवाइड करके इस वेबसाइट पर उनकी लिस्ट भी डाली जाएगी।


वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसके लिए मंगलवार को ऑपरेशन क्लीन मनी नाम की वेबसाइट लाॅन्च की। जेटली ने इस अवसर पर कहा कि अब देश में टैक्स चोरी करने वाले सुरक्षित नहीं हैं। कई लोगों के लिए अब हिसाब-किताब करने का वक्त आ गया है। सरकार ईमानदार टैक्स पेयर्स को राहत देना चाहती है, यह उसी दिशा में उठाया या कदम है।



वहीं, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और उनके बेटे के. चिदंबरम के ठिकानों पर मंगलवार सुबह पड़े CBI के छापों पर पत्रकारों के सवाल के जवाब में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इस तरह की कार्यवाही बिना किसी ठोस सबूत के नहीं की जाती है। अगर छापे पड़े हैं तो इसके पीछे विभाग के पास कुछ सबूत भी होंगे।


वेबसाइट लॉन्च के अवसर पर सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (CBDT) के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने कहा कि हम चाहते हैं कि लोग टैक्स चोरी की आदत छोड़कर टैक्स भरने की आदत डालें। इनकम टैक्स विभाग रेड्स की रिपोर्ट इस वेबसाइट पर डालेगा। साथ ही टैक्स डिफॉल्टर्स की पहचान करने की प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी भी इस वेबसाइट पर दी जाएगी।


डिफॉल्टर्स के खिलाफ हाई रिस्क, मीडियम रिस्क, लो रिस्क और वेरी लो रिस्क जैसी कैटिगरीज के तहत अलग-अलग ऐक्शन लिये जाएंगे।

मीडियम रिस्क कैटिगरी को SMS या ईमेल के जरिये सूचना भेजी जाएगी ताकि वे सुधार के उपाय कर सकें और लो रिस्क या वेरी लो रिस्क कैटगिरी के डिफॉल्टर्स पर नजर रखी जाएगी। स्कैनिंग के तहत आने वाले व्यक्तियों या समूहों की पहचान सार्वजनिक नहीं की जाएगी।