2017 में देशभर में 22,700 से ज्यादा ऑनलाइन बैंकिंग में धोखाधड़ी के मामले हुए दर्ज- सरकार

नई दिल्ली (30 दिसंबर): नोटबंदी के बाद सरकार देश को कैशलेश इकॉनोमी की ओर ले जाना चाहती है। सरकार भ्रष्टाचार और कालेधन पर रोक के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन लेनदेन के लिए प्रोत्साहित कर रही है और देश में लगातार कैशलेश अर्थव्यावस्था की ओर बढ़ भी रही है। लेकिन इन सबके बीच देश में ऑनलाइन लेनदेन में घोखाधड़ी भी बढ़ती जा रही है।

इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राज्यसभा में लिखित जानकारी देते हुए कहा कि 21 दिसंबर 2017 तक देश में ऑनलाइन बैंकिंग में 22,700 से भी ज़्यादा धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए गए। डेबिट, क्रेडिट और इंटरनेट बैंकिंग के चलते यह धोखाधड़ी करीब 179 करोड़ रुपये की है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि दिसंबर तिमाही में ही (21 दिसंबर तक) 10,220 धोखाधड़ी के मामले दर्ज हुए है। ये धोखाधड़ी 111.85 करोड़ रुपये की है। सितंबर तिमाही में 7,371 केस सामने आए, जून तिमाही में 5,148 तो मार्च तिमाही में 3,077 मामले सामने आए। जिसमें 67.13 करोड़ रुपये की रकम लगी।