हिंदी के बिना भारत में आगे बढ़ना संभव नहीं है: वेंकैया नायडू

नई दिल्ली(24 जून): केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को कहा कि हिंदी राष्ट्रभाषा है। हिंदी के बिना भारत में आगे बढ़ना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारी मातृभाषा हमारी पहचान है। अंग्रेजी सीखते-सीखते हम अंग्रेजी माइंड में भी आ गए हैं और यह देश के हित में नहीं है।


वेंकैया नायडू अहमदाबाद के साबरमती गांधी आश्रम में महात्मा गांधीजी के जीवन के 100 अलग-अलग प्रसंगो पर बनी पुस्तक का लोकार्पण करने पहुंचे थे। यह किताब गांधी के जीवन पर लिखी गई। किताब अंग्रेजी में होने के बाद, उन्होंने कहा कि हमारी देश में जिस तरह से लोग अंग्रेजी भाषा के पीछे दौड़ रहे हैं, वो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा हामारी मातृभाषा हमारी पहचान है, पर हमें इस पर गर्व होना चाहिए।


बता दें कि बेंगलुरु मेट्रो में कन्नड़ के अलावा हिंदी और अंग्रेजी में भी अनाउंसमेंट होता है। ऐसे में कुछ लोगों का कहना है कि उन पर जबरन हिंदी थोपी जा रही है।