''जेएनयू को आतंक का अड्डा बताना खतरनाक''

नई दिल्ली (16 फरवरी): जेएनयू में लगे भारत विरोधी नारों पर शुरू हुई सियासत खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से इस मुद्दे पर सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी और घटना की आड़ में निर्दोष छात्रों को गिरफ्तार करने का विरोध किया।

केजरीवाल ने अपनी चिट्ठी में लिखा कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में जो घटनाएं हुई हैं उसको लेकर मैं चिंतित हूं। जेएनयू में जो देश विरोधी नारे लगे हैं वो गलत हैं लेकिन उसकी आड़ में निर्दोष लोगों को गिरफ्तार करना और परेशान करना उचित नहीं है। राष्ट्रभक्ति को डर में बदलकर संवैधानिक संस्थाओं को अपने इशारे पर चलाना भी ठीक नहीं है। सीएम केजरीवाल ने कहा कि घटना को बहाना बनाकर पूरे जेएनयू को आतंकवाद के अड्डे के रूप में पेश किया जा रहा है जो कि बहुत खतरनाक है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर JNU के छात्रों ने बहुत नाम कमाया है।

केजरीवाल ने अपनी चिट्ठी में बीजेपी विधायक ओपी शर्मा द्वारा की गई मारपीट का भी मामला उठाया। केजरीवाल ने लिखा कि पटियाला कोर्ट में छात्रों और पत्रकारों के साथ मारपीट हुई, उसमें पुलिस खड़ी देखती रही और कुछ नहीं किया गया। सभी अखबारों के पहले पेज पर है कि बीजेपी विधायक ओपी शर्मा ने एक लड़के की पिटाई की है। ये भी कहा कि अगर पिस्तौल होती तो गोली चला देता। ये सिस्टम को फेल करने वाले हालात हैं जोकि ठीक नहीं है।