ओमपुरी को कॉमेडी करने के लिए जोकर बनने की नहीं पड़ी जरूरत

नई दिल्ली ( 6 जनवरी ): बाॅलीवुड के दिग्गज अभिनेता ओम पुरी के आकस्मिक निधन के बाद बॉलीवुड में शोक की लहर दौड़ गयी है। ओम पुरी का शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। पद्म श्री ओमपुरी ने 'अर्ध्य सत्य', 'धारावी' 'मंडी' जैसी सैकड़ों फ़िल्मों में सशक्त अभिनय किया है। ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फ़िल्म 'घासीराम कोतवाल' से की थी।

ओमपुरी जल्द ही सलमान खान स्टारर 'ट्यूबलाइट' में भी नजर आने वाले थे। कॉलेज में एक कार्यक्रम के दौरान नाटक में हिस्सा लेने के चलते उनकी मुलाकात पंजाबी थियेटर से जुड़े हरपाल तिवाना से हुई और इसके बाद तो जैसे उन्हें उनकी मंजिल ही मिल गई।

आक्रोश ने बनाई पहचान

ओमपुरी का जन्म अंबाला में 18 अक्टूबर 1950 में हुई थी। उनका पूरा नाम ओम राजेश पुरी है। वह पद्मश्री पुरस्कार विजेता भी हैं। शुरुआती शिक्षा उन्होंने पंजाब के पटियाला से ली थी। उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा और 1976 में पुणे फिल्म संस्थान से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ओमपुरी ने लगभग डेढ़ वर्ष तक एक स्टूडियो में अभिनय की शिक्षा दी। इसके बाद उन्होंने निजी थिएटर ग्रुप माजमा की स्थापना की थी। ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फिल्म 'घासीराम कोतवाल' से की थी। 1980 में रिलीज 'आक्रोश' उनकी पहली हिट फिल्म थी।

चेहरे से बड़े रुखे लगते थे

फिल्म समीक्षक दीपक दुआ ने बताया कि वह चहरे से बड़े रुखे लगते थे, लेकिन हंसोड़ किस्म के इंसान थे। जैसे ही बातचीत शुरू होती थी तो हंसी-मजाक करते थे। उन्होंने बुलंदशहर का एक किस्सा याद करते हुए बताया कि वह उनसे आखिरी बार 'मिस तनकपुर हाजिर हो' के सेट पर मिले थे। उन्हें देरी हो रही थी। उन्होंने फिल्म निर्देशक से कहा कि मैं तुम्हें डांटना चाहता हूं या जल्दी से मेरा शूट ले लो।

उनकी सबसे बड़ी खासियत यह थी कि उन्हें कॉमेडी करने के लिए जोकर बनने की जरूरत नहीं पड़ी जैसा कि अन्य अभिनेताओं को पड़ती है। वे अपनी भाव-भंगिमाओं से, अपनी आवाज से ही कॉमेडी कर लेते थे।

वहीं 'आक्रोश', 'माचिस', 'अर्धसत्य', 'आरोहण' मंडी, मिर्च-मसाला, और 'गांधी' सरीखी फिल्मों ने उन्हें गंभीर अभिनेता के तौर पर पहचान दिलाई. कहना गलत न होगा कि वह एक स्टार नहीं, एक बड़े अभिनेता थे, जिन्होंने बॉलीवुड में कई पीढ़ियों को अभिनय  करना सिखाया.