नाम- 'उमर मतीम', जिसने अमेरिका के 'गे' नाइट क्लब में मचाया 'कत्ले-आम'

नई दिल्ली (12 जून): अमेरिका के फ्लोरिडा में आज अब तक का सबसे बड़ा शूटआउट हुआ। फ्लोरिडा के ओरलैंडो में एक बंदूकधारी युवक ने समलैंगिक नाइट क्लब पर हमला कर 50 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार डाला। जबकि इस हमले में 53 लोग जख्मी हुए हैं। हमलावर की पहचान उमर मतीन नाम के युवक के तौर पर की गई है जो अफगानी मूल का अमेरिकी नागरिक बताया जा रहा है। हमले के बाद ओरलैंडो में इमरजेंसी का एलान कर दिया गया है।

अमेरिका के इतिहास में सबसे खतरनाक हमलों में से एक हमला फ्लोरिडा में हुआ। सड़क पर या तो सिर्फ पुलिस और सिक्योरिटी एजेंसी की गाड़ियां दिख रही थीं, या फिर जख्मी लोगों को ले जाती एंबुलेंस। ओरलैंडो में पल्स नाम का गे नाइट क्लब बेगुनाहों के खून से रंग गया था।

एक बंदूकधारी लोगों पर अंधाधुंध गोलियां बरसा रहा था, चारों ओर चीख पुकार मची थी। असॉल्ट राइफल और हैंडगन से लैस बंदूकधारी ने गोलियां खत्म होने तक लोगों का कत्लेआम किया। पुलिस के पहुंचते ही हमलावर ने करीब 30 लोगों को बंधक बनाकर पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी।

पूरे क्लब की घेराबंदी करके करीब 4 घंटे तक पुलिस और स्वाट की टीम हमलावर को काबू करने की कोशिश करती रही। आखिरकार हमलावर को ढेर कर दिया गया। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक मारा गया हमलवार अफगानी मूल का अमेरिकी नागरिक था। जिसका नाम था- उमर मतीन। उनतीस साल का उमर मतीन अमेरिका का ही नागरिक था। उमर मतीन के इस हमले के मकसद का अभी खुलासा नहीं हुआ है। लेकिन इस्लामिक स्टेट के सोशल अकाउंट पर इसकी तस्वीरें डालकर इसकी पहचान की पुष्टि करने का दावा किया गया।

ओरलैंडो में हुए इस हमले को अमेरिका की सुरक्षा और जांच एजेंसियों ने भी आतंकी हमला मानकर जांच शुरू कर दी है। एफबीआई की तरफ से आशंका जताई गई है कि मारे गये हमलावर इस्लामिक चरमपंथियों से हो सकता है।