वाराणासी में रहते हैं दुनिया के सबसे उम्रदराज शख्स शिवानंद

नई दिल्ली (9 सितंबर): काशी के कबीरनगर मोहल्ले में एक आश्रम में रहने वाले स्वामी शिवानंद दुनिया के सबसे उम्रदराज व्यक्ति माने जाते हैं। 8 अगस्त 1896 को जन्मे स्वामी शिवानंद के शिष्यों ने उनका नाम गिनीज बुक में नाम दर्ज कराने फैसला किया है।

- कोलकाता में उनके साथ मौजूद उनके शिष्य तुया घोष ने कहा कि अक्टूबर में स्वामी जी के काशी में आने के बाद गिनेस बुक में दावा प्रस्तुत किया जाएगा।

- अभी तक गिनीज बुक में जापान की जिरोमान किमुरा का नाम सबसे उम्रदराज व्यक्ति के रूप में दर्ज था।

- 116 साल 54 दिन की जिंदगी गुजारने के बाद उनकी मृत्यु जून 2013 में हो गयी थी।

- 1925 से 1959 तक फ्रांस, ग्रीस, माल्टा, जापान सहित कई देशों का दौरा कर चुके शिवानंद सादगीपूर्ण जीवन को जीना है लंबे उम्र का राज बताते हैं।

- पश्चिम बंगाल में पैदा हुए शिवानंद 1979 में बनारस आने के बाद कबीरनगर में अपना आश्रम बनाने के साथ लोगों को सादगी का संदेश देते रहे हैं।

- हरी मिर्च के साथ भोजन में उबला चावल, उबला हुआ पानी और उबला हुईं सब्जियों का सेवन करते हैं।

- दुनिया के सबसे उम्रदराज स्वामी शिवानंद की दिनचर्या रोजाना योग से ही शुरू होती है।

- उनके शिष्य डॉक्टर सुभाषचंद्र गैराई बताते हैं उम्र के साथ स्वामी जी के आंखों की रोशनी थोड़ी कमजोर हो गयी है।

- दूर की चीजें उनको नहीं दिखाई देती हैं लेकिन बिना चश्मे के आज भी वह लिखा-पढ़ी करते हैं।