हर दिन पेट्रोल–डीजल की कीमतों में होगा बदलाव, जानें बड़ी बातें

नई दिल्ली ( 13 अप्रैल ): सरकारी तेल कंपनियां अब रोजाना के आधार पर पेट्रोल–डीजल की कीमतों की समीक्षा करेंगी। इसके लिए कंपनियां 1 मई से देश के 5 शहरों में पायलट प्रोजेक्ट शुरू करने जा रही हैं। अगर यह सफल रहा तो इसे पूरे देश में लागू करने पर विचार किया जाएगा। ऐसे में आने वाले दिनों में तेल की कीमतों में रोजाना बदलाव होंगे। मौजूदा समय में हर 15 दिनों में डीजल-पेट्रोल की कीमतों की समीक्षा होती है। कंपनियों का मानना है कि इससे लोगों को अचानक बड़ी कटौती या बढ़ोतरी के झटके से बचाया जा सकेगा।


पहले यहां होगी शुरुआत

पायलट प्रॉजेक्ट के तहत केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी, आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम, राजस्थान के उदयपुर, झारखंड के जमशेदपुर (टाटा) और चंडीगढ़ में शुरुआत होगी।


क्या यह संभव है?

यह संभव है। अधिकतर पंप ओटोमेटेड हैं। डिजिटल तकनीक से जुड़े होने की वजह से कंपनियां देशभर में स्थित करीब 53,000 फिलिंग स्टेशन तक नई दरों की जानकारी तुरंत पहुंचा सकती हैं।


पहले ऐसे दी जाती थी सूचना?

पंपों तक कीमतों की जानकारी पहुंचाना पहले बहुत जटिल काम था। डीलर कंपनियों के फोन कॉल और फैक्स मेसेज के इंतजार में बैठे होते थे। इसके बाद सप्लाई ऑर्डर को बढ़ाने या कम करने के लिए दौड़ते थे। इससे सप्लायर्स को काफी परेशानी होती थी।


चिंतित होने वाली कोई बात है?

वास्तव में ऐसा नहीं है। हर दिन बदलाव का मतलब यह नहीं है कि कीमतें तेजी से ऊपर नीचे होंगी। हर दिन कीमत में महज कुछ पैसों का अंतर होगा, जिससे कंज्यूमर को झटका नहीं लगेगा।


ऐसा करने पीछे उद्देश्य क्या है?

सत्ताधारी पार्टी को नुकसान की आशंका की वजह से चुनाव के दौरान कीमतों को बढ़ने से रोक लिया जाता है। इस नुकसान की पूर्ति के लिए सरकार कंपनियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में नरमी के बावजूद कीमतें ऊंची रखने की छूट देती है। कहा जा रहा है कि हर दिन कीमतों में बदलाव वाली योजना लागू होने से कंपनियां बिना राजनीतिक दबाव के कीमतों पर फैसला कर सकेंगी।