शशिकला के खिलाफ पन्नीरसेल्वम ने किया विद्रोह, कहा- मुझे धमका कर लिया गया इस्तीफा

नई दिल्ली ( 7 फरवरी ): तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम मंगलवार रात को जयललिता की गैर मौजूदगी में सीएम का पद संभालने वाले ओ पन्नीरसेल्वम ने शशिकला के खिलाफ खुला विद्रोह छेड़ दिया है। पन्नीरसेल्वम जयललिता की समाधि के पास गए और मौन होकर बैठ गए। तकरीबन आधे घंटे तक ऐसे ही बैठे रहने के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा कि जयललिता की आत्मा ने मुझसे बात की। उन्होंने मुझे जनता को सच बताने को कहा। पन्नीर सेल्वम ने कहा कि शशिकला गुट मुझपर दबाव बना रहा है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम ने कहा कि मैं राज्य के हित के लिए अकले संघर्ष करूगा और इस्तीफा वापस लूंगा।

पन्नीरसेल्वम ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता था, लेकिन अम्मा जब अस्पताल में थीं तो उन्होंने कहा कि पार्टी और सरकार बचाने के लिए मैं पदभार संभालूं। पन्नीरसेल्वम ने कहा कि साइक्लोन वर्धा का मामला हो, जया की मौत पर कानून व्यवस्था संभालने का मुद्दा हो या जलीकट्टू मैंने अम्मा के बताए मुताबिक काम किया। राजस्व मंत्री मेरे पास आए और बोले कि शशिकला को सीएम बनना चाहिए और मेरे खिलाफ गलत शब्द बोले गए। मुझे नीचा दिखाया गया। एक और मंत्री मेरे पास आए और बोले कि राजस्व मंत्री के शब्द गलत थे लेकिन वो चले गए और मदुरै में वही बात बोले।

पन्नीरसेल्वम ने कहा कि जयललिता मेरे सपने में आई थीं और मुझे सपने में आदेश दिया। उन्होंने कहा कि अम्मा चाहती थीं कि मैं ही मुख्यमंत्री बनूं। पन्नीर सेल्वम ने कहा कि जयललिता ने सपने में मुझसे कहा कि तुम ही जनता के प्रतिनिधि हो।

उन्होंने कहा कि अम्मा अपने पीछे एक मजबूत पार्टी छोड़कर गई हैं और उन्होंने हमारे हाथ में सरकार सौंपी है। पन्नीरसेल्वम ने कहा कि मुझे सीएम पद तो दिया गया लेकिन लगातार अपमानित किया जाता रहा।

आपको बता दें कि उन्होंने शशिकला को विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद अपना इस्तीफा राज्यपाल को भेज दिया है।

आपको बता दें कि एआईएडीएमके महासचिव बनने के बाद जयललिता की करीबी रहीं शशिकला के लिए पनीरसेल्वम ने इस्तीफा देकर तमिलनाडु के सीएम की कुर्सी तो छोड़ दी, लेकिन ये पिक्चर अभी बाकी जैसे हालात नजर आ रहे हैं। एक तरफ तो शशिकला के सीएम बनने के बीच कई अड़चन आ रही हैं, वहीं पार्टी के अंदर भी उनके विरोध के सुर ऊंचे हो रहे हैं।