जल्द ही बंद होंगे ये 9 सरकारी बैंक, कहीं इनमें आपकी भी खाता तो नहीं

नई दिल्ली (17  जुलाई): अगर आपका सरकारी बैंक में खाता है तो यह खबर जानना आपके लिए बेहद ही जरूरी है, क्योंकि मोदी सरकार वैश्विक आकार के 3-4 बैंक तैयार करने के लक्ष्य के साथ बैंकों के विलय के एजेंडे पर काम कर रही है। वह सरकारी स्वामित्व वाले बैंकों की संख्‍या 21 से घटाकर करीब 12 करने की दिशा में काम कर रही है।

एक अधिकारी ने कहा कि बैंकों का विलय कर अगले कुछ सालों में उनकी संख्या 10 से 12 तक लाई जाएगी। उन्होंने बताया कि तीन स्तरीय ढांचे के तहत देश के सबसे बड़े बैंक SBI के आकार के कम से कम 3-4 बैंक होंगे। उनके मुताबिक पंजाब एंड सिंध बैंक और आंध्रा बैंक जैसे कुछ क्षेत्र विशेष के बैंक अपनी स्वतंत्र पहचान के साथ बने रहेंगे, इसके अलावा मझौले आकार के कुछ बैंक भी अस्तित्व में रहेंगे।

पंजाब नैशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक और बैंक ऑफ इंडिया ऐसे बैंकों की तलाश करना शुरू कर सकते हैं जो अधिग्रहण के लिए तैयार हैं। बैंकों के समायोजन में उसके कर्ज, ह्यूमन रिसोर्स, भौगोलिक स्थिति आदि कारकों को ध्यान में रखा जाएगा।

गौरतलब है कि कुछ माह पहले सरकार ने SBI में उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय किया था। इसके बाद से स्टेट बैंक देश का सबसे बड़ा और दुनिया के शीर्ष 50 बैंकों में जगह बनाने में कामयाब रहा है।