दुनिया में मंदी, मगर भारत में बढ़ रही है लखपतियों की संख्या

नई दिल्ली (13 जुलाई): एक तरफ जहां देश की जनता हर दिन बढ़ रही मंहगाई से परेशान है तो वहीं इंटरनेशनल इंडेक्स में भारत की अमीरी बढ़ती जा रही है। यानी भारत में ऐसे लखपतियों की संख्या लगातार बढ रही है जिनकी व्यक्तिगत हैसियत 10 लाख रुपये से ज्यादा है।  रएचएनडब्लूआई (हाई नेट वर्थ इंडिविजुअल) की ताजा रैंकिग के मुताबिक साल 2015 के अंत तक भारत में 2 लाख 36 हजार मिलेनियर्स थे। और उनकी कुल संपत्ति 1 हजार पांच सौ अरब डॉलर थी। न्यू वर्ल्ड वेल्थ की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2007 से शुरु हुई वैश्विक मंदी के बावजूद भारत ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया है। इस बीच भारत की  एचएनडब्लूआई में 55 फीसदी की बढोत्तरी हुई है। एचएनडब्ल्यूआई में उन व्यक्तियों को शामिल किया जाता है, जिनकी शुद्ध संपत्ति 10 लाख डॉलर या उससे अधिक होती है। रिपोर्ट में अगले दस सालों में भारतीय एचएनडब्ल्यूआई की संख्या और संपत्ति में और वृद्धि होने का अनुमान जताया गया है। रिपोर्ट में 2025 तक एचएनडब्ल्यूआई की संख्या 135 प्रतिशत बढ़कर 5,54,000 होने का अनुमान है।

भारत में इंडिविजुल ग्रोथ-

*  भारत में लगातार बढ़ रही है लखपतियों की संख्या

*  दुनिया में मंदी, मगर भारत लगातार तरक्की की राह पर 

* 10 लाख से ज्यादा हैसियत वाले हिंदुस्तानियों की संख्या में 55 फीसदी बढ़ोतरी

* 2025 तक 135 फीसदी हो जायेगी एचएनडब्ल्यूआई