स्वदेशी तकनीक से बिजली उत्पादन के क्षेत्र में भारत बनाएगा नया रिकॉर्ड

नई दिल्ली (2 जुलाई): बिजली उत्पादन के क्षेत्र में भारत पूरी दुनिया में अनोखा रिकॉर्ड बनाने जा रहा है। दरअसल कलपक्कम में स्वदेशी से बन रहे फास्ट ब्रीडर रिएक्टर के अक्षय पात्र के निर्माण का काम अपने अंतिम चरण में है। चेन्नई के कालापक्कम तट पर भारतीय परमाणु वैज्ञानिक विशालकाय आधुनिक तकनीक का स्टोव तैयार कर रहे हैं, यह स्टोव अपने आखिरी पड़ाव पर है।

बताया जा रहा है कि वैज्ञानिक पिछले 15 साल से इस रिएक्टर के निर्माण कार्य में जुटे थे। इस विशालकाय न्यूक्लियर रिएक्टर को अक्षय पात्रा की तरह माना जाता है जहां कभी भी भोजन खत्म नहीं होता है। यहां बिना रुके लगातार बिजली का उत्पादन किया जा सकेगा। यहां इतनी बिजली का उत्पादन होगा जो कभी भी खत्म होने का नाम नहीं लेगी।

इंटरनेशनल एटोमिक एनर्जी एजेंसी यानी IAEA के निदेशक यूकिया अमानों का कहना है कि पारंपरिक रिएक्टर की तुलना में फास्ट रिएक्टर 70 फीसदी तेज बिजली का उत्पादन कर सकते हैं और यह पारंपरिक रिएक्टर से काफी सुरक्षित हैं, इसके जरिए रेडिएशन भी काफी कम होता है और यह बहुत ही कम रेडियोएक्टिव पदार्थ का उत्सर्जन करता है। ऐसे में फास्ट ब्रीडर रिएक्टर एक विशेष प्रकार के परमाणु रिएक्टर होते हैं जोकि काफी ज्यादा परमाणु उर्जा पैदा करते हैं।