जंग की हालत में पाक पर पहले परमाणु हमला करने से नहीं चूकेगा भारत!

नई दिल्ली ( 1 अप्रैल ): पाकिस्‍तान के साथ युद्ध की नौबत आने पर भारत की जो पूर्व में नीति रही है उससे पूरी दुनिया अच्‍छे से वाकिफ है। दोनों देशों के परमाणु संपन्‍न होने के बाद भी भारत की इस नीति में कुछ समय पहले तक कोई परिवर्तन नहीं आया था। लेकिन अब इसमें बदलाव आता दिखाई दे रहा है।


परमाणु विशेषज्ञों का कहना है कि युद्ध की नौबत आने पर भारत पाकिस्‍तान पर परमाणु हमला करने से पीछे नहीं हटेगा। इतना ही नहीं वह यह भी मानते हैं कि भारत की इस बदलाव वाली नीति में पाकिस्‍तान पर होने वाला परमाणु हमला इतना व्‍यापक होगा कि वह फिर कभी उठ नहीं सकेगा।


अमेरिका के एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक भारत की इस नीति में अब स्‍पष्‍ट तौर पर बदलाव आ चुका है। अखबार ने अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति रोनाल्‍ड रेगन द्वारा वर्ष 1984 में दिए गए एक बयान का जिक्र किया है। जिसमें उन्‍होंने कहा था कि परमाणु युद्ध को कभी जीता नहीं सकता है और न ही इसको कभी लड़ा ही जाना चाहिए। उनके दिए इस बयान का आशय इस तरह के युद्ध से होने वाली हानि से था, जिसको जापान के हिरोशिमा और नागासाकी में साफतौर पर देखा गया था।


विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तान अपनी परमाणु ताकत की आड़ में आतंकवाद को एक हथियार के तौर पर लगातार इस्तेमाल कर रहा है। इसका खामियाजा भारत लंबे समय से भुगत रहा है। अखबार के मुताबिक विशेषज्ञों के हवाले से लिखा है कि ऐसी सूरत में भारत के सब्र का बांध टूट सकता है। वह परमाणु हथियारों को पहले इस्तेमाल न करने की अपनी नीति की दोबारा से समीक्षा कर सकता है ताकि पाकिस्‍तान की किसी अगली हरकत से पहले ही उसको करारा जवाब दिया जा सके।


गौरतलब है कि पिछले दिनों रक्षा मंत्री के पद पर रहते हुए मनोहर पर्रीकर ने भी इसी तरह का बयान दिया था। उनका कहना था कि पाकिस्‍तान से युद्ध की सूरत में भारत अब परमाणु हमला करने से पीछे नहीं हटेगा। उनके इस बयान ने समूची दुनिया में खलबली मचाने का काम किया था। हालांकि बाद में उन्‍होंने इसको अपनी निजी राय बताया था।