अजीत डोभाल से मिलेंगे चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग, दोनों देशों के NSA भी मिलेंगे

नई दिल्ली ( 26 जुलाई ): भारत-चीन के बीच डोकलाम में सीमा पर चल रहे गतिरोध के बीच गुरुवार को बीजिंग में ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक होने जा रही है। इस बैठक में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी हिस्सा लेंगे।  

बीजिंग में हो रहे ब्रिक्स एनएसए के शिखर सम्मेलन के बाद चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और अन्य ब्रिक्स राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों से शुक्रवार को मुलाकात करेंगे। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के पांच एनएसए शी जिनपिंग से मिलेंगे।

इससे पहले शी जिनपिंग ने भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल से फोन पर बात की। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है कि अजित डोभाल और शी जिनपिंग के बीच डोकलाम को लेकर भी बात हुई हालांकि दोनों के बीच हुई बातचीत को शिष्टाचार कॉल बताया गया है।

चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि दोनों सुरक्षा सलाहकारों के बीच होने वाली द्विपक्षीय वार्ता के संबंध में उनके पास पर्याप्त जानकारी है। हालांकि, उन्होंने इतना जरूर बताया कि इस मीटिंग में दोनों देशों के सुरक्षा सलाहकार दोनों देशों के संबंधों और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

बता दें कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सभी ब्रिक्स के सभी पांच सदस्य देशों के सुरक्षा सलाहकारों की मीटिंग बुलाई है। मालूम हो कि 27-28 जुलाई को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल अपने चीन के समकक्ष यांग जेइची से इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे। 

अजीत डोभाल ब्रिक्स (ब्राजील,भारत, रूस, चीन और  दक्षिण अफ्रीका) देशों के राष्ट्रीय सुलाहकारों की बैठक (27-28 जुलाई) में हिस्सा लेने को चीन के दौरे पर हैं। अजीत डोभाल और यांग जेइची भारत और चीन के विशेष प्रतिनिधि के तौर पर दोनों देशों के बीच सीमा विवाद के निबटारे के लिए वार्ता भी कर रहे हैं।

फिलहाल भारत ने संयमित रहकर चीन को यह संदेश दे दिया है कि वह डोकलाम के मुद्दे पर न तो झुकने जा रहा है और न ही किसी तरह के युद्ध का पक्षधर है। इसी के साथ नई दिल्ली संभावित चुनौती का आकलन करते हुए कूटनीतिक और अन्य तैयारियों को तेज कर दिया है। समझा जा रहा है कि भारत और चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच चर्चा के बाद 16 से जारी डोकलाम गतिरोध का रास्ता निकल सकता है।

चीन रवाना होने से पहले डोभाल ने पीएम मोदी और विदेश सचिव से की मुलाकात