उ.प्र. चुनावः बाप-बेटे के बाद मां-बेटी का मामला पहुंचा निर्वाचन आयोग

नई दिल्ली (18 जनवरी): उत्तर प्रदेश में राजनीतिक महत्वकांक्षा को लेकर पिता-पुत्र के संघर्ष के मामले का पटाक्षेप हुआ है। इससे पहले ही  यहां की राजनीति में एक और कलह की चिंगारी अभी सुलग चुकी  है, जो कभी भी पार्टी और सत्ता की चाह में भड़क सकती है।

 यह मामला मां-बेटी के बीच का है, जो चुनाव आयोग पहुंच चुका है। अपना दल की अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने दावा किया है कि वही पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। वहीं, उनकी बेटी और मिर्जापुर से सांसद और केंद्र की मोदी सरकार में स्वास्थ्य राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल भी खुद को पार्टी का अध्यक्ष कहती हैं। हालांकि, बीच-बीच में मां-बेटी के बीच सुलह की खबरें भी आती रही हैं, लेकिन मामला अभी तक पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है।

विधान सभा चुनाव को देखते हुए मां-बेटी के बीच एक बार फिर से पार्टी के चुनाव चिह्न 'कप-प्लेट' को लेकर संघर्ष शुरू हो गाया है। पर अपना-अपना दावा ठोक रहे हैं। कृष्णा पटेल की दूसरी बेटी उन्हीं के साथ हैं। इससे पहले कृष्णा पटेल गुट की तरफ से पार्टी पर अधिकार को लेकर एक याचिका इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में दाखिल की गई थी। कोर्ट ने सुनवाई के बाद चुनाव आयोग को भेज दिया है।