आयकर विभाग की रडार पर अब कंपनियां, नोटबंदी के दौरान मोटे कैश डिपॉजिट पर नोटिस

नई दिल्ली(27 जुलाई): नोटबंदी के दौरान बैंकों में बड़ी मात्रा में नकदी जमा करने वाले लोगों को नोटिस भेजने के बाद टैक्स विभाग ने कंपनियों की ओर नजर घुमाई है। पिछले सप्ताह सोमवार से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने उन लोगों को नोटिस भेजने शुरू किए हैं, जिन्होंने नोटबंदी के दौरान अपने कॉरपोरेट बैंक एकाउंट्स में नकदी जमा कराई थी। इस बार डिपार्टमेंट कॉरपोरेट एकाउंट्स पर फोकस करता दिख रहा है, जिनमें कारोबारियों ने इस दावे के साथ कैश जमा कराया था कि वह नकदी उनकी कारोबारी गतिविधियों के चलते उनके पास थी। ऐसे कैश को मुख्य रूप से बिक्री से मिली रकम बताया गया था।

- एक आयकर अधिकारी ने बताया कि नोटिसों के इस दूसरे राउंड में फोकस बड़ी मछलियों पर है। उन्होंने कहा, 'जिसने भी नोटबंदी के बाद बैंक खातों में बेहिसाब नकदी जमा कराई होगी, उसे नोटिस भेजा जा रहा है। ये नोटिस टैक्सपेयर्स को ईमेल के जरिए भेजे जा रहे हैं।'

- मुंबई में एक टैक्स अधिकारी ने बताया कि ये नोटिस कुछ जानेमाने ज्वैलर्स, डायमंड ट्रेडर्स, टेक्सटाइल मर्चेंट्स और रियल एस्टेट डिवेलपर्स को भेजे गए हैं। मामले की जानकारी रखने वालों के मुताबिक, पिछले सप्ताह से लाखों टैक्स नोटिस भेजे गए हैं।

- नोटिस के साथ डिपार्टमेंट ने ऐसे ट्रांजैक्शंस के बैंक स्टेटमेंट्स भी भेजे हैं। साथ ही, चार सवाल भी पूछे गए हैं। इनमें आमदनी के स्रोत और खरीदार या विक्रेता की जानकारी मांगी गई है।