नोटबंदी: महाकाल मंदिर हुआ कैशलेस, कार्ड से मिला 1 लाख रुपये का दान

नई दिल्ली(16 दिसंबर): बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकाल मंदिर में 8 तारीख को हुई नोट बंदी के बाद से ही ऑनलाइन पेमेंट की कवायद चल रही थी और आज गुजरात के एक व्यापरी ने महाकाल मंदिर पंहुच कर सबसे पहला कैशलेस पेमेंट द्धारा 1 लाख रुपये का दान किया।

- अहमदाबाद के निवासी व्यापारी शेखर  पटेल ने एक लाख का दान मंदिर में लगी स्वाईप मशीन पर स्वीप कर किया।

- दरअसल नोटबंदी के बाद से ही देश भर में कैशलेस पेमेंट की बात कही जा रही थी जिसमें देशभर के सभी मंदिर शामिल थे जिनमें महीनों में लाखों रुपये का दान आता है।

-महाकाल मंदिर में भी लाखों श्रद्धालु साल भर आते हैं लेकिन अब नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना दानदातों को करना पड़ रहा था जो लाखों रुपये दान तो करना चाहते हैं लेकिन कैश की कमी के चलते नहीं कर पार रहे हैं। ऐसे में महाकाल मंदिर समिति ने स्वाईप मशीन लगवाई है और आज सबसे पहले गुजरात के एक व्यापरी शेखर पटेल ने एक लाख रुपये का दान कार्ड से दिया। माना जा रहा है की कैशलेस मंदिरों का ये सबसे पहला दान है।