नोटबंदी के फैसले पर नहीं झुकेगी सरकार, न फैसला वापस होगा, ना ही पीएम देंगे जवाब

नई दिल्ली (17 नवंबर): 500 और 1000 के नोटों पर पांबदी के बाद पूरा देश बैंक और ATM के बाहर लाइन में खड़ा नजर आ रहा है। पैसे नहीं होने की वजह से देशभर में सैकड़ों शादियां टल चुकी है। मजदूर, किसान, आम आदमी सब कैश की किल्लत से परेशान हैं। वहीं इस मसले पर सियासत जोरों पर है। नोटबंदी के मसले पर  विपक्ष सड़क से संसद तक मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। वहीं सरकार का कहना है कि इस नोटबंदी वापस लिए जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। साथ ही सरकार इस मुद्दे पर संसद में पीएम के जवाब की मांग को खारिज कर दिया है। 

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी साफ कर दिया है कि नोटबंदी वापस लिए जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता। नोटबंदी की जानकारी चुनिंदा लोगों के लिए लीक किए जाने के आरोप को गलत बताते हुए जेटली ने संयुक्त संसदीय समिति से जांच की मांग को भी नकार दिया। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि कुछ दिनों में हालात सामान्य हो जाएंगे।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि रिजर्व बैंक के पास पर्याप्त पैसा है और एटीएम मशीनों में युद्ध स्तर पर बदलाव किया जा रहा है। उन्होंने कहा, थोड़े दिनों में सभी एटीएम में पैसा होगा और लोगों की दिक्कतें खत्म हो जाएंगी। वित्त मंत्री ने नोटबंदी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से जवाब की विपक्ष की मांग को गलत बताते हुए कहा कि विपक्ष चर्चा से भाग रहा है। जेटली ने कहा, 'विपक्ष के तर्क खोखले साबित हो रहे हैं, बेवजह डर का माहौल बनाया जा रहा है। नोटबंदी से अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।

वहीं बैंकों से कैश निकालने की सीमा 4500 से घटाकर 2000 किए जाने पर भी जेटली ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए किया गया कि बड़ी संख्या में लोग इसका दुरुपयोग कर रहे थे। चुनिंदा लोगों के लिए नोटबंदी की जानकारी लीक किए जाने के आरोप को भी जेटली ने सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि इसकी संयुक्त संसदीय समिति के जांच की कोई जरूरत नहीं है। कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए जेटली ने कहा, एक राष्ट्रीय दल होने के नाते कांग्रेस को इसे बाधित करने के बजाय इसका समर्थन करना चाहिए। इसकी तुलना पाकिस्तान के आतंकवाद से करना गैर जिम्मेदाराना है।

उधर संसद में नोटबंदी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से जवाब मांग रहे विपक्ष पर गुरुवार को सरकार ने आरोप लगाया कि विपक्षी दल इस विषय पर चर्चा को बाधित करने के बहाने तलाश रहे हैं क्योंकि यह उनके खिलाफ जा रहा है। सरकार ने पीएम नरेंद्र मोदी से जवाब देने की मां को खारिज कर दिया। विपक्ष के हंगामे के चलते दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित होने के बाद सूचना प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि सदन के नियमों और स्थापित चलन के मुताबिक सरकार की ओर से चर्चा का जवाब संबंधित मंत्री या कोई अन्य व्यक्ति देंगे।