बैंकों की अपील, कैश निकालने की लिमिट अभी नहीं बढ़ाए सरकार

नई दिल्ली (28 अक्टूबर): नोटबंदी का बाद देशभर में कैश की किल्लत लगातार बरकरार है।वहीं प्रधानमंत्री मोदी की तरफ से मांगी गई मियाद भी आज खत्म हो रही है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या आगे भी देश में कैश की किल्लत बरकार रहेगी या फिर हालात सामान्य होंगे। वहीं खबर आ रही है कि नए साल पर सरकार बैंक और एटीएम से कैश निकालने की लिमिट को बढ़ाने पर विचार कर रही है। सूत्रों की माने तो अगले साल यानी 1 या 2 जनवरी से सरकार एटीएम और बैंको से पैसे निकालने की लिमिट को 4000 और 4000 हजार कर सकती है। फिलहाल एटीएम से प्रतिदिन 2500 रुपए और बैंक से हफ्ते में 24000 रुपए निकालन की बंदिश लगी हुई है।

सूत्रों की माने के देशभर के बैंक सरकार और RBI कैश निकालने की पाबंदी को फिलहाल नहीं बढ़ाने की गुहार लगा रही है। दरअसल नोटबंदी का बड़ा प्रभाव बैंकों पर भी पड़ा है। करोड़ों उपभोक्ताओं से जूझते बैंकों ने सरकार से गुहार लगाई है कि कैश निकालने पर लगी पाबंदी को 30 दिसंबर के बाद तबतक ना हटाया जाए जबतक बैंकों के पास पर्याप्त मात्रा में कैश ना आ जाए। माना जा रहा है कि सरकार शुक्रवार को लगी हुई पाबंदी पर कोई फैसला ले सकती है। इसको लेकर बैंकों ने चिंता जाहिर की है। बैंकों का मानना है अगर पाबंदी को हटा लिया गया तो लोग ज्यादा मात्रा में पैसा निकालकर जमा कर लेंगे जिससे बैंकों के पास कैश की किल्लत ज्यादा हो सकती है।

बैंको का कहना है जब तक बैंकों के पास पर्याप्त मात्रा में कैश नहीं आ जाता है तब तक कैश निकालने पर लगी पाबंदी को नहीं हटाना चाहिए। बैंकों का कहना है कि जैसे ही पाबंदी हटेगी सभी लोग ज्यादा पैसा निकालना चाहेंगे। इससे परेशानी खड़ी हो सकती है।