कांग्रेस ने नहीं नोटा ने मध्य प्रदेश में बीजेपी को हराया

Image Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 दिसंबर): 230 विधानसभा सीटों वाले मध्य प्रदेश में 15 साल के बाद कांग्रेस ने बीजेपी का विजयरथ रोक दिया है। कांटे की लड़ाई में बीजेपी को 109 और कांग्रेस को 114 सीटें मिली हैं। खबर है कि यहां पर बीजेपी पर कांग्रेस कम नोटा ज्यादा भारी पड़ा है। इसी वजह से शायद बीजेपी लगातार दावा ठोक रही है कि मध्यप्रदेश की जनता ने उन्हें पूरी तरह नहीं नकारा है।  गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में नोटा ने 22 सीटों पर चुनाव को प्रभावित किया है और इसकी चपेट में बीजेपी के चार मंत्री भी आए हैं। हालांकि बीजेपी और कांग्रेस को प्राप्त मतों में महज 1 फीसदी का अंतर रहा। वहीं 1.4 फीसदी यानी 5.4 लाख मतदाताओं ने नोटा का बटन दबाया।

Image Source: Google

ग्वालियर दक्षिण सीट पर हार जीत का मार्जिन 121 वोट का रहा। इस सीट पर कांग्रेस के प्रवीण पाठक ने बीजेपी के नारायण सिंह कुशवाहा को 121 वोटों से हराया जबकि यहां पर 1550 लोगों ने नोटा का बटन दबाया। वहीं दामोह में वित्त मंत्री जयंत मलैया महज 799 वोट से हार गए जबकि वहां पर 1299 वोटर्स ने नोटा दबाया। बुरहानपुर में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री अर्चना चिटनिस 5120 वोटों से हार गईं जबकि  5,700 नोटा पर वोट पड़े।