नॉर्थ कोरिया ने बजाई परमाणु हमले की घंटी, परेशान हुए चीन-यूएस


नई दिल्ली (21 मार्च): उत्तर कोरिया का सनकी तानाशाह किम जोंग उन दिन पर दिन अपने तरकश में खतरनाक हथियारों का जखीरा जमा कर रहा है। पिछले शनिवार को उसने नए राकेट इंजन का परीक्षण कर दुनिया के सुपरपावर्स को चौका दिया। हालांकि उसने राकेट परीक्षण को अंतरिक्ष कार्यक्रम से जुड़ा हुआ बताया है, लेकिन जो लोग सनकी तानाशाह की हकीकत जानते हैं उनका मानना है कि किम जोंग राकेट इंजन का इस्तेमाल परमाणु हथियारों को ले जाने वाली इंटरबैलेस्टिक मिसाइल में करेगा। सनकी के हाथ में परमाणु बम के ट्रिगर ने अमेरिका और चीन जैसे देशों के होश उड़ा दिए है।


अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया से लेकर चीन तक इस बात से सबसे ज्यादा परेशान है कि सनकी तानाशाह पर अगर वक्त रहते लगाम नहीं लगाया गया तो उसे संभालना नामुमकिन हो जाएगा। दरअसल हाइड्रोजन बम और बैलिस्टिक मिसाईल के परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया ने हाई परफॉर्मेंस वाले रॉकेट इंजन का सफल परीक्षण किया है। इस परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया अंतरिक्ष में रॉकेट भेजने की महारत हासिल कर ली है।


कोरियाई न्यूज एजेंसी KCNA के मुताबिक...

- ये इंजन उत्तर कोरिया को विश्वस्तरीय सेटेलाइट लॉन्च क्षमता पाने में मदद करेगा। इस रॉकेट इंजन का आसानी से मिसाइलों में प्रयोग किया जा सकेगा।

- उत्तर कोरिया ने रॉकेट इंजन का परीक्षण सोहा सेटलाइट लॉंनचिंग ग्राउंड से किया।

- उत्तर कोरिया लंबी दूरी वाले मिसाइल की टेस्टिंग भी कर चुका है।

- इस परीक्षण के बाद किम जोंग ने खुशी का इजहार करते हुए दुनिया भर को चेताया है कि अभी तो ये एक नई शुरुआत है। दुनिया उत्तर कोरिया की इस ऐतिहासिक सफलता को 18 मार्च की क्रांति के तौर पर याद रखेगी।


किम जोंग उन ने ये भी दावा किया है कि उत्तर कोरिया एक इंटर-कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल के टेस्ट-लॉन्च के बेहद करीब है। उत्तर कोरिया की नए नए परीक्षण और नए ऐलान के बाद उत्तर कोरिया जापान से लेकर चीन और अमेरिका की बेचैनी पढ़ गई है। इस बेचैनी का अंदाजा सिर्फ इस बात से लगा सकते हैं कि अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन जापान और दक्षिण कोरिया की यात्रा करने के बाद शनिवार को उत्तर कोरिया के मसले पर बातचीत करने के लिए बीजिंग पहुंच गए। खबर ये है कि तमाम विवादों को भुलाते हुए अमेरिका और चीन ने नॉर्थ कोरिया को रोकने के लिए हामी भी भर दी है।