नोर्थ कोरिया के परमाणु परीक्षण से फैली सनसनी, कैपेसिटी हिरोशिमा पर गिराए बम से भी ज्यादा

नई दिल्ली (9 सितंबर): उत्तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण कर पूरी दुनिया में सनसनी फैला दी है। समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार उत्तर कोरिया के सरकार टीवी ने शुक्रवार को परमाणु परीक्षण करने किए जाने की पुष्टि की है। इस टेस्ट को उसका अब तक का सबसे पावरफुल टेस्ट बताया जा रहा है। यह इतना पावरफुल था कि इससे 5.3 तीव्रता का आर्टिफिशियल भूकंप का झटका महसूस किया गया। एक्सपर्ट का कहना है कि नॉर्थ कोरिया के टेस्ट किए गए बम की कैपेसिटी 1945 में अमेरिका के हिरोशिमा पर गिराए बम से कहीं ज्यादा थी। 

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि उत्तर कोरिया द्वारा किया गया परमाणु परीक्षण बिल्कुल स्वीकार्य नहीं है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु परीक्षण किए जाने की खबर पर दक्षिण कोरिया, जापान से बात की है। वहीं, चीन ने उत्तर कोरिया के परमाणु परिक्षण पर आपत्ति जताई है।

नॉर्थ कोरिया ने 1985 में नॉन-प्रोलिफिरेशन ट्रीटी (परमाणु अप्रसार संधि-NPT) को मंजूर किया था। इसके तहत वो एक्टिव तौर पर न्यूक्लियर वेपन्स डेवलप नहीं कर सकता था, लेकिन उसने समझौते को नहीं माना। 2003 में नॉर्थ कोरिया ने खुद को इस एग्रीमेंट से अलग करने का एलान कर दिया। उत्तर कोरिया ने 2006 में पहली बार परमाणु परीक्षण किया था जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने उस पर कई प्रतिबंध लगाए थे। लेकिन नोर्थ कोरिया पर इसका कोई असर नजर नहीं आता। 5 सितंबर को चीन में हुई जी-20 की बैठक के दौरान भी उत्तर कोरिया ने तीन बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था।