तीसरे विश्वयुद्ध की सुगबुगाहट, उत्तर कोरिया के बाद दक्षिण कोरिया ने भी दागी मिसाइल

नई दिल्ली ( 28 नवंबर ): उत्तर कोरिया ने लगभग ढाई महीने की शांति के बाद बुद्धवार को जापानी सागर में अपनी ताकतवर बैलिस्टिक मिसाइल दागी है। इस खबर की पुष्टि साउथ कोरिया के मिलिट्री अधिकारियों ने की है। इस तरह की मिसाइल का परीक्षण किम जोंग उन ने आखिरी बार सितम्बर में कराया था। इस अंतरद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल के दायरे में वाशिंगटन समेत अमेरिका के पूर्वी समुद्रीय तट इलाके भी आते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि नॉर्थ कोरिया की बैलिस्टिक मिसाइल के दायरे में अब वाशिंगटन डीसी भी आ गया है.

अब उत्तर कोरिया के मिसाइल टेस्ट के जवाब में दक्षिण कोरिया ने भी मिसाइल टेस्ट किया है। दक्षिण कोरिया की मिलिट्री ने इसकी पुष्टि की है। अधिकारियों ने कहा कि मिनटों के भीतर ही उत्तर कोरिया के मिसाइल टेस्ट के जवाब में मिसाइल फायर की गई है। 

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जो-इन ने कहा कि मिसाइल टेस्ट की आशंका थी और सरकार इससे निपटने की तैयारी कर रही है। मून ने कहा कि अन्य देशों के लिए कोई विकल्प नहीं बचा है कि नॉर्थ कोरिया पर दबाव बनाए रखें और प्रतिबंध लगाएं।

अमेरिकी मिलिट्री ने भी खबर की पुष्टि की है, मिसाइल लॉन्च के बारे में अमेरिका और जानकारी जुटा रहा है। अमेरिका ने इसे दुनिया के लिए खतरा बताया है। 

साउथ कोरिया के मुताबिक, उत्तर कोरिया साल 2018 तक न्यूक्लियर मिसाइल लॉन्च करने में सक्षम हो जाएगा। गौरतलब है कि नॉर्थ कोरिया अपनी मिसाइलों को बेहतर बनाने के लिए लगातार परीक्षण कर रहा है। इसके पहले वह 22 मिसाइलों का परीक्षण कर चुका है। 

अमेरिका के मुताबिक 2018 तक उत्तर कोरिया ऐसे विध्वंसकारी मिसाइलें बनाने में सक्षम हो सकता है जो अमेरिका तक मार करने में सक्षम होंगी। उत्तर कोरिया दिन-ब-दिन अपनी मिसाइल तकनीकि सुधारने पर काम कर रहा है। साल 2017 में उत्तर कोरिया ने ताबड़तोड़ मिसाइल परीक्षण किए हैं।