ये फोन बना ISIS आतंकियों का पसंदीदा डिवाइस, वजह जानकर चौंक जाएंगे

नई दिल्ली(10 अगस्त): एक न्यूज रिपोर्ट के अनुसार नोकिया 105 ISIS लड़ाकों का सबसे पसंदीदा डिवाइस बन गया है। भारत में ये फोन 830 रुपए से 1200 रुपए की रेंज में मिल रहा है। इसकी कीमत इंटरनेशनल मार्केट में कहीं भी 30 डॉलर से ज्यादा नहीं है।

ये फोन आखिर क्यों ISIS लड़ाकों का पसंदीदा फोन बन गया है....

- बॉम्ब ट्रिगर के लिए दो फोन का इस्तेमाल होता है एक कॉल करने के लिए और दूसरा सिग्नल भेजने के लिए। इसके लिए सबसे बेस्ट डिवाइस नोकिया 105 है।

- बहुत सस्ता होने के साथ-साथ सबसे ज्यादा बैटरी लाइफ देता है। ये फोन दो दिन तक बिना चार्ज के रह सकता है।

- नोकिया 105 काफी सस्ता है और आसानी से उपलब्ध है। इंटरनेशनल मार्केट में इसकी कीमत 30 डॉलर से ज्यादा कहीं नहीं है।

- नोकिया 105 का वाइब्रेशन फीचर काफी स्ट्रॉन्ग है इस वजह से भी ये बॉम्ब का ट्रिगर बनाने के लिए उपयुक्त फोन है।

- इस फोन में कैमरा और बाकी किसी ऐप का ज्यादा इस्तेमाल नहीं होता इसलिए इस ट्रैक करना बाकी स्मार्टफोन्स के मुकाबले थोड़ा मुश्किल है। इसी के कारण, ये हैंग भी नहीं होता।

- ISIS को ये फोन अधिकतर छोटे बिजनेस मैन से मिलते हैं। ये पूरी तरह से लीगली खरीदे जाते हैं।

- माइक्रोसॉफ्ट कंपनी इसको लेकर कोई एक्शन नहीं ले सकती है। क्योंकि ये लीगल तौर पर छोटे बिजनेस ओनर को बेचे जाते हैं। रिपोर्ट के अनुसार ईराक में कंपनी 10 मोबाइल फोन से ज्यादा किसी एक वेंडर को नहीं दे रही है इसका यही कारण है।